पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने बनाई नेशनल सिक्योरिटी पॉलिसी, भारत के साथ व्यापार करने का इच्छुक!

Pakistan National Security Policy: पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान इस वक्त बुरे हालात से गुजर रहा है. उसकी अर्थव्यवस्था (Economy) कमजोर स्थिति में है. इसे लेकर प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने शुक्रवार को देश की पहली नेशनल सिक्योरिटी पॉलिसी लॉन्च की. इस पॉलिसी में पाक सरकार ने आर्थिक सुरक्षा (Economic Security) को केंद्र में रखा है. अब तक पाकिस्तान की सिक्योरिटी पॉलिसी में मिलिट्री पर विशेष फोकस किया जाता था और ज्यादा से ज्यादा संसाधन मिलिट्री को मजबूत करने में खर्च किए जाते थे. लेकिन अब सरकार ने इसे बदलकर अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का प्लान बनाया है. नई पॉलिसी को 100 पेज के दस्तावेज में स्पष्ट रूप से समझाया गया है. 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नई पॉलिसी में पाकिस्तान ने भारत के साथ कश्मीर मुद्दे पर बातचीत के बिना भी व्यापार करने का जिक्र किया है. पिछले हफ्ते एक अधिकारी ने इस बात का खुलासा एक अखबार के साथ बातचीत में किया था. हालांकि आधिकारिक तौर पर अभी इस मामले को लेकर दोनों देशों की तरफ से कोई बयान नहीं आया है. पाकिस्तान सीमा पार से आतंकी गतिविधियों को अंजाम देता रहता है, जिसकी वजह से भारत का रुख काफी सख्त है. लंबे समय से पाक भारत के साथ बातचीत करना चाहता है, लेकिन भारत ने साफ कह दिया है कि वार्ता तभी होगी, जब पड़ोसी मुल्क आतंकी गतिविधियों पर लगाम लगाएगा.

Britain: ब्रिटिश प्रिंस Andrew को करना होगा मुकदमे का सामना, ये है पूरा मामला

पाकिस्तान की इस पॉलिसी का पिछले महीने नेशनल सिक्योरिटी कमेटी और कैबिनेट ने भी समर्थन किया था. इमरान खान इस पॉलिसी का एलान करते वक्त शुक्रवार को पिछली सरकारों पर भी खूब बरसे. उन्होंने कहा कि पिछली सरकारें पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में नाकाम रही हैं. इमरान खान ने कहा कि यह पॉलिसी एक नागरिक-केंद्रित ढांचे को स्पष्ट करती है, आर्थिक सुरक्षा को अपने केंद्र में रखती है और एक सुरक्षित व आर्थिक रूप से फ्लैक्सिबल पाकिस्तान के लिए बनाई गई है. प्रधानमंत्री ने कहा कि शुरू से ही पाकिस्तान की सिक्योरिटी पॉलिसी मिलिट्री पर केंद्रित रही है. पाकिस्तानी आर्मी ने कई दशकों तक देश पर शासन किया है. अब तक देश की सुरक्षा से लेकर विदेश नीतियों तक आर्मी अहम भूमिका निभाती है. जानकारों के मुताबिक सरकार के हर काम में आर्मी का दखल होता है. 

यह भी पढ़ेंः Iraq: बगदाद में अमेरिकी दूतावास को निशाना बनाकर 3 रॉकेट दागे गए, एक स्कूल पर गिरा