ओमिक्रोन वेरिएंट काफी कम गंभीर, Delta की तुलना में मौत की संभावना 91 फीसदी कम- CDC का दावा

Corona Omicron Variant: ओमिक्रोन वेरिएंट कोविड-19 के अन्य वेरिएंट्स की तुलना में काफी कम गंभीर है. US सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, डेल्टा वेरिएंट (Delta Variant) के जोखिम की तुलना में ओमिक्रोन (Omicron) के कारण अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम आधा है.

Delta की तुलना में अस्पताल में भर्ती लोगों में, उन्हें गहन देखभाल या ICU में भर्ती करने की आवश्यकता जैसी संभावना 75 फीसदी कम है और मृत्यु दर भी डेल्टा की तुलना में 91 फीसदी कम है. हालांकि यह लंबे समय से स्वास्थ्य अधिकारियों और विशेषज्ञों द्वारा पहले भी बताया गया है कि ओमिक्रोन वेरिएंट इससे पहले के वैरिएंट्स की तुलना में इतना घातक नहीं है. इसकी वजह से ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और भारत में कुछ ही मौतें हुई हैं.

ओमिक्रोन से मौत का आंकड़ा कम

वर्तमान में, अमेरिका में हर दिन औसतन 750,515 नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं और महामारी के शुरू होने के बाद से दैनिक तौर पर सामने आने वाले मामलों में दूसरा सबसे बड़ा उछाल भी इन दिनों देखा जा रहा है. मगर गनीमत है कि मामलों की संख्या के अनुपात में मौतें कम दर्ज की जा रही है. हर दिन वायरस के कारण 1716 मौतों का आंकड़ा सामने आया है, जो कि डेल्टा की तुलना में कम ही है. हालांकि हाल के हफ्तों में इस वेरिएंट के मामलों में रिकॉर्ड संख्या में तीन गुना वृद्धि जरूर हुई है, लेकिन मौतें समान दर से नहीं हुई हैं.

CDC प्रमुख रोशेल वालेंस्की ने कहा गया कि हाल ही में अमेरिका में कोविड की मौतों में 10 प्रतिशत की वृद्धि वास्तव में डेल्टा वेरिएंट के कारण हो रही है, न कि अत्यधिक तेजी से फैल रहे ओमिक्रोन स्ट्रेन के कारण. सीडीसी डेटा का यह भी अनुमान है कि अमेरिका में 98 प्रतिशत सक्रिय कोविड मामले ओमिक्रोन वेरिएंट के हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि डेल्टा वेरिएंट, जो 2021 में हावी था, अब केवल दो प्रतिशत मामलों में ही देखा जा रहा है. अगर यह नया वेरिएंट तेजी से फैलता है और इसकी मृत्यु का कारण बनने की संभावना नहीं है, तो यह आबादी के माध्यम से जल्दी से खत्म होना शुरू हो सकता है और उम्मीद है कि यह जल्द ही कम होना शुरू हो सकता है.

ये भी पढ़ें-

चमत्कार! न चल पा रहा था, न बोल, कोविशील्ड वैक्सीन लगने के बाद चलने-बोलने लगा शख्स- डॉक्टर्स का दावा

भारत में पिछले साल डेल्टा वेरिएंट से पैदा हुए हालात फिर हो सकते हैं उत्पन्न, संयुक्त राष्ट्र ने चेताया