बाउंसर ने महिला को पब में नहीं दी एंट्री, कहा- बहुत खराब है तुम्हारी शक्ल

मैनचेस्टर: समाज में हर किसी को बराबरी का अधिकार हासिल है और कानून किसी के साथ भी धर्म, जाति या रंग के हिसाब से भेदभाव की इजाजत नहीं देता. लेकिन ब्रिटेन के मैनचेस्टर में एक महिला को अपने लुक्स की वजह से भेदभाव का शिकार होना पड़ा. यही नहीं उसे एक पब में एंट्री नहीं दी गई और बुरी तरह बाहर निकाल दिया गया, क्योंकि वहां तैनात बाउंसर को लगता है कि वह शक्ल से बहुत बुरी है.

महिला को पब में नहीं मिली एंट्री

‘द सन’ की खबर के मुताबिक क्लैरी साइडबॉटम नाम की महिला ने अपनी दर्दभरी कहानी लोगों के साथ साझा की है. उसने बताया कि पब के बाउंसर्स ने हमला कर न सिर्फ उसका फोन छीन लिया बल्कि उससे कहा कि तुम बहुत ही बुरी हो और इसलिए पब में घुसने लायक नहीं हो. महिला के साथ ऐसा सलूक करने के बावजूद बाउंसर हंसते रहे और उसका मजाक बनाते रहे.

ये भी पढ़ें: हर दूसरे मर्द पर डोरे डालती है गर्लफ्रेंड! बॉयफ्रेंड ने सुनाई आपबीती

घटना पिछले साल 7 फरवरी की है और पुलिस इसकी जांच में जुटी हुई थी. महिला का फोन इस घटना के दौरान गुम हो गया था. मैनचेस्टर की क्राउन कोर्ट ने इस मामले में दोषी को सजा सुनाई है. बाउंसर के पास से मार्शल आर्ट्स में इस्तेमाल होने वाला हथियार बरामद हुआ था, साथ ही उस पर लूट, हमला और हथियार रखने के आरोप साबित हुए हैं. कोर्ट ने दोषी पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है जिसका भुगतान पीड़ित महिला को किया जाएगा.

‘मेरी यादें मुझसे छीनी गईं’

महिला ने दोषी को सजा मिलने पर खुशी जताई लेकिन कहा कि उसे ज्यादा कठोर सजा मिलनी चाहिए थी. उनका कहना है कि बाउंसर की तैनाती लोगों की सुरक्षा के लिए की जाती है लेकिन जब वही किसी पर हमला करने लग जाए तो यह काफी चौंकाने वाला है. उन्होंने बताया कि उस दौरान मेरा फोन छीन लिया गया जिसमें मेरे बच्चे की तस्वीरें थीं जो अब कभी मुझे दोबारा हासिल नहीं हो पाएंगी, मेरी यादें मुझसे छीन ली गई हैं.

दरअसल जब महिला के साथ बदसलूकी की गई तो वह फोन के कैमरे से वीडियो बनाने लगी और फिर बाउंसर से उनकी झड़प हो गई. इसके बाद बाउंसर ने महिला का फोन छीनकर किसी अन्य शख्स को दे दिया जो वहां से भाग निकला. कोर्ट ने भी बाउंसर को सबूत मिटाने का दोषी पाया है और कहा कि आपने अपने काम के उलट बर्ताव किया है.  

LIVE TV