कोरोना जैसे लक्षणों वाली हजारों संक्रामक बीमारी दे रही हैं अगली महामारी के संकेत


<p style="text-align: justify;">महामारी के खतरे पर जोर देने वाले अक अध्ययन के अनुसार, चीन और दक्षिण पूर्व एशिया में हर साल कोविड-19 जैसे बीमारियों से लोग इंफेक्ट होंगे. यह बीमारी उन्हे जानवर से फैलने वाले कोरोनावायरस के कारण होगा.</p>
<p style="text-align: justify;">इकोहेल्थ एलायंस और सिंगापुर के ड्यूक एनयूएस मेडिकल स्कूल के शोधकर्ताओं ने सहकर्मी समीक्षा के पहले गुरुवार को एक अध्ययन में कहा कि हर साल औसतन 400,000 ऐसे संक्रमण सालाना होते हैं. इनमें से अधिकतर की पहचान नहीं हो पाती है, क्योंकि वह हल्के या बिना किसी लक्षण के पैदा होते हैं और आसानी से लोगों के बीच प्रसारित होते हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>कैसे पनपा कोरोनावायरस</strong><strong>?</strong></p>
<p style="text-align: justify;">कोविड-19 या कोरोना वायरस का प्रचार प्रसार कहां और यह कैसे उभरा यह सवाल पूरी दुनिया में विवादास्पद हो गया है, कुछ देश के नेताओं ने इसे चीन के वुहान में एक प्रयोगशाला में काल्पनिक रिसाव बताया है जो रोगजनकों का अध्ययन करता है.यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एड इंफेक्शियस डिजजी द्वारा समर्थित शोध, इस बात पर धारित है कि चमगादड़ SARS-CoV-2 जैसे वायरस के मुख्य श्रोत है और उनके पास आने रहने वाले लोगों की स्थिति विशेष रूप से कमजोर है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>टेक्सास से छह गुना बड़े साइज में रहते है चमगादड़</strong></p>
<p style="text-align: justify;">लगभग दो दर्जन चमगादड़ प्रजातियां जो कोरोनवायरस से संक्रमित हो सकती हैं, एशिया के एक क्षेत्र में टेक्सास के आकार के छह गुना से अधिक में निवास करती हैं, दक्षिणी चीन और म्यांमार, लाओस, वियतनाम और इंडोनेशिया के कुछ हिस्सों को स्पिलओवर के लिए सबसे जोखिम भरा माना जाता है. न्यूयॉर्क स्थित इकोहेल्थ एलायंस के पीटर दासज़क और उनके सहयोगियों ने सार्स से संबंधित कोरोनविर्यूज़ के जोखिम के जोखिम का अनुमान लगाने के लिए बैट वितरण मॉडलिंग और पारिस्थितिक और महामारी विज्ञान डेटा का उपयोग किया, और चीन, दक्षिण एशिया और दक्षिण – पूर्व एशिया में गैर चमगादड़ से मानव संक्रमण की दर का अनुमान लगाया.</p>
<p style="text-align: justify;">&nbsp;एशिया में, लगभग 478 मिलियन लोग कोरोनो वायरस ले जाने वाले चमगादड़ों के निवास वाले क्षेत्र में रहते हैं, जिसमें अधिकांश लाओस, कंबोडिया, थाईलैंड, वियतनाम, नेपाल, भूटान, प्रायद्वीपीय मलेशिया, म्यांमार, दक्षिण-पूर्व चीन और इंडोनेशिया के पश्चिमी द्वीप शामिल हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>यह भी पढ़ें;</strong></p>
<p class="article-title " style="text-align: justify;"><strong><a href="https://www.abplive.com/news/india/due-to-climate-change-odisha-excess-rainfall-in-september-1968344">मौसम विशेषज्ञों ने कहा, सितंबर में अधिक बारिश ओडिशा में जलवायु परिवर्तन का परिणाम</a></strong></p>
<p class="article-title " style="text-align: justify;"><strong><a href="https://www.abplive.com/news/india/firecracker-ban-in-delhi-storage-sale-bursting-firecrackers-this-diwali-2021-cm-arvind-kejriwal-1968359">Firecracker Ban: दिल्ली में इस साल भी नहीं बिकेंगे पटाखे, सरकार ने पूरी तरह लगाया बैन</a></strong></p>