पाकिस्तान के राष्ट्रपति ने कहा- पड़ोसियों के साथ चाहते हैं अच्छे संबंध, भारत को लेकर कही ये बात

India-Pakistan Relations: पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान हमेशा अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध चाहता है, लेकिन भारत ने उसकी इस इच्छा को एक कमजोरी के रूप में लिया. उन्होंने आरोप लगाया कि भारत, चीन के साथ पाकिस्तान के संबंधों को पटरी से उतारने की कोशिश कर रहा है.

आरिफ अल्वी ने विपक्षी दलों के विरोध के बीच द्विसदनीय संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली के चौथे संसदीय वर्ष की शुरुआत के अवसर पर संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की. अल्वी ने 2019 में पाकिस्तान में एक आतंकी शिविर पर भारत की ‘एयर स्ट्राइक’ को याद करते हुए कहा कि पाकिस्तान हमेशा अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध चाहता है लेकिन भारत ने उसकी इस इच्छा को एक कमजोरी के रूप में लिया.

भारत ने पाकिस्तान से कहा है कि वह आतंक, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल में इस्लामाबाद के साथ सामान्य पड़ोसी संबंध चाहता है. भारत ने यह भी कहा है कि आतंकवाद और शत्रुता से मुक्त माहौल बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है. पाकिस्तान के राष्ट्रपति अल्वी ने यह भी आरोप लगाया कि भारत कश्मीर के लोगों के साथ भारी अन्याय कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं भारत से कहना चाहता हूं कि भारत में उत्पीड़न रोके और (कश्मीर में) आत्मनिर्णय के वादे को पूरा करें.’’

अल्वी ने पाकिस्तान की प्रगति में चीन की ‘‘महत्वपूर्ण’’ भूमिका की भी सराहना करते हुए कहा कि भारत ने इन संबंधों को पटरी से उतारने की कोशिशों कीं, इसके बावजूद बीजिंग के साथ उसके संबंध गर्मजोशी भरे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हम चीन के साथ संबंधों को बहुत सम्मान से देखते हैं और उन्हें मजबूत करना चाहते हैं. मैं भारत को यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि वह अपने लक्ष्यों में कभी सफल नहीं होगा और पाक-चीन की दोस्ती मजबूत होती रहेगी.’’

अल्वी ने यह भी रेखांकित किया कि बढ़ती जनसंख्या देश के लिए खतरा है और लोगों से जनसंख्या नियंत्रण पर ध्यान देने के लिए कहा तथा सरकार से इस क्षेत्र के लिए धन बढ़ाने का अनुरोध किया.

ये भी पढ़ें: 

Afghanistan News: तालिबान के कब्जे के बाद पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स के विमान ने काबुल के लिए भरी पहली उड़ान

अमेरिका पर एक और बड़े हमले की चेतावनी, 9/11 की 20वीं बरसी पर फिर जिंदा हुआ अलकायदा का मुखिया अल जवाहिरी