सेफ नहीं Google पर कस्टमर केयर नंबर सर्च करना, जालसाज इस तरह लगा रहे चपत

Google Safety Tips: अक्सर लोगों को अलग-अलग प्रोडक्ट या सर्विस से जुड़ी समस्या के समाधान या किसी जानकारी के लिए संबंधित कंपनी से संपर्क करने की जरूरत पड़ती है. कंपनी का हेल्पलाइन नंबर निकालने के लिए लोग सबसे आसान तरीका गूगल पर सर्च करने को मानते हैं और वहां से सर्च करके नंबर निकाल लेते हैं. कई बार तो सर्च सही रहता है, लेकिन कई मामलों में लोग इस तरह नंबर निकालकर कॉल करने पर ठगी के शिकार हो जाते हैं. वो नंबर कंपनी का न होकर ठगों का होता है. आइए जानते हैं कैसे होता है ये खेल और आप कैसे इससे बच सकते हैं.

इस तरह करते हैं गड़बड़ी

जालसाज गूगल पर जाकर बड़ी कंपनियों के कस्टमर केयर की जगह अपना नंबर कंपनी के नाम से पोस्ट करते हैं. इस तरह से नंबर और पता गूगल बिजनेस अकाउंट के जरिए गूगल पर लिस्ट किया जाता है. ठग लोगों को झांसा देने के लिए उस कंपनी से मिलती जुलती फेक वेबसाइट भी बना देते हैं. इसके अलावा गूगल मैप और गूगल सर्च में बड़ी कंपनियों और अन्य संस्थानों के कॉन्टैक्ट डिटेल्स को एडिट करने का विकल्प होता है. जालसाज इसका भी फायदा उठाते हैं. वह असली नंबर को एडिट करके अपना नंबर अपडेट कर देते हैं. ऐसे में जब आप कंपनी के नाम से नंबर सर्च करते हैं तो उनका नंबर आ जाता है.

इन बातों का रखें ध्यान

अगर आप कुछ सावधानी बरतें तो आप इस तरह की ठगी से बच सकते हैं. आइए हम आपको बताते हैं कुछ जरूरी बातें.

  • सबसे पहले ये कि गूगल सर्च पर कभी भी किसी कंपनी का हेल्पलाइन नंबर सर्च न करें.
  • सबसे आसान तरीका ये है कि आप उस कंपनी की वेबसाइट पर जाएं. यहां एड्रेस बार में कंपनी की स्पेलिंग जरूर देखें. स्पेलिंग गलत है तो वेबसाइट भी गलत होगी. वेबसाइट सही है तो अब उस पेज पर सबसे नीचे या टॉप पर राइट या लेफ्ट साइड में Contact Us, Helpline या Support जैसे ऑप्शन मिलेंगे. आप इन पर क्लिक करके कंपनी का नंबर देख सकते हैं.
  • इसके अलावा वेबसाइट पर आपको ईमेल आईडी या लाइव चैट का ऑप्शन भी मिलता है. आप इन तरीकों से भी कंपनी से संपर्क कर सकते हैं.
  • जिस कंपनी को लेकर आपको दिक्कत है उनके ऐप, रैपर या पैकेट पर भी कंपनी का हेल्पलाइन नंबर दर्ज होता है, सही से चेक करके नंबर वहीं से लें तो ज्यादा बेहतर.
  • इस तरह के कॉल पर आप प्रोडक्ट को लेकर कॉल करते हैं, इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि प्रोडक्ट के अलावा कोई और जानकारी साझा न करें. खासकर बैंक से जुड़ी जानकारी.
  • आजकल हर कंपनी ट्विटर पर एक्टिव हैं. आपके लिए सबसे आसान तरीका ट्विटर से शिकायत का है. इस पर एक्शन भी फौरन होता है.
  • ट्विटर पर भी शिकायत करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि ट्विट करते वक्त अपनी निजी जानकारी वहां शेयर न करें. सिर्फ अपनी प्रॉब्लम बताएं.
  • ट्विटर पर शिकायत करने का सबसे आसान तरीका ये है कि आप उक्त कंपनी को फॉलो करें. फिर उस कंपनी को डायरेक्ट मैसेज करके अपनी समस्या बताएं. इससे आपका मैसेज और कोई भी जानकारी कंपनी के अलावा कोई दूसरा नहीं देख पाएगा.
  • शिकायत करने के बाद अगर कोई कॉल आए और बैंक से जुड़ी जानकारी मांगे तो ऐसी डिटेल्स शेयर न करें.

ये भी पढ़ें

Ransomware Attack : हैकर्स कर रहे बुजुर्ग और मिडिल एज्ड यूजर्स पर Ransomware अटैक, बरतें ये सावधानी

Avoid WhatsApp Delta : सावधान! कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये गलती, WhatsApp Delta के चक्कर में ब्लॉक हो सकता है WhatsApp अकाउंट