अब आतंकवादी का भी ‘TIME’ आ गया? मुल्ला बरादर को बताया गया करिश्माई सैन्य नेता

अब आतंकवादी का भी ‘TIME’ आ गया? मुल्ला बरादर को बताया गया करिश्माई सैन्य नेता

नई दिल्ली: दुनिया की एक मशहूर मैगजीन को लगता है कि एक आतंकवादी का Time आ गया है. टाइम मैगजीन (Time Magazine) ने दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की लिस्ट जारी की है. इस लिस्ट में अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) के साथ भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) और पश्चिम … Read more

क्या भारत में जरूरत से ज्यादा लोकतंत्र है? अधिकार मालूम लेकिन कर्तव्य कोई नहीं जानता

क्या भारत में जरूरत से ज्यादा लोकतंत्र है? अधिकार मालूम लेकिन कर्तव्य कोई नहीं जानता

नई दिल्ली: आज International Day Of Democracy यानी अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस है. माना जाता है कि ढाई हजार वर्ष पहले ग्रीस में पहली बार लोकतंत्र की स्थापना हुई थी जबकि आज की तारीख में भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है. इन ढाई हजार वर्षों में लोकतंत्र का स्वरूप कैसे बदला इसे आप भारत … Read more

Engineer’s Day: भारत में Engineer बनने के सपनों की इंजीनियरिंग किसने की?

Engineer’s Day: भारत में Engineer बनने के सपनों की इंजीनियरिंग किसने की?

नई दिल्ली: वर्ष 1860 में आज ही के दिन देश के जाने माने इंजीनियर एम. विश्वे-श्वरैया (M. Visvesvaraya) का जन्म हुआ था. ये बात लगभग उसी दौर की है, जब भारत को उसका पहला इंजीनियरिंग कॉलेज मिला था. इस कॉलेज का नाम Thomason Engineering College था, जो वर्ष 1847 में रुड़की में बन कर तैयार … Read more

South Korea ने Bangtan Boys को बनाया विशेष दूत, ऐसे किया अपनी सॉफ्ट पॉवर का इस्तेमाल

South Korea ने Bangtan Boys को बनाया विशेष दूत, ऐसे किया अपनी सॉफ्ट पॉवर का इस्तेमाल

सियोल: हिंदी भारत की Soft Power है लेकिन भारत की सरकारें और भारत के लोग इसकी ताकत को ठीक से समझ नहीं पाए. लेकिन भारत से 5 हजार किलोमीटर दूर मौजूद दक्षिण कोरिया अपनी Soft Power का इस्तेमाल करना अच्छी तरह से जानता है. दक्षिण कोरिया की इस Soft Power का नाम है K Pop … Read more

सर सैयद अहमद समाज सुधारक कहे गए लेकिन राजा महेंद्र प्रताप सिंह का नाम गायब क्यों?

सर सैयद अहमद समाज सुधारक कहे गए लेकिन राजा महेंद्र प्रताप सिंह का नाम गायब क्यों?

नई दिल्ली: लोकतंत्र सिर्फ आतंकवाद की वजह से ही नहीं बल्कि मिलावटी इतिहास की वजह से भी खतरे में पड़ जाता है. लोकतंत्र की परिभाषा होती है, जनता का, जनता के लिए, जनता का शासन.  भारत के इतिहास में की गई मिलावट भारत ने अंग्रेजों से मिली आजादी के फौरन बाद ही इस भावना को … Read more

14 सितंबर: हिन्‍दी आपकी मातृभाषा है या आपके लिए मात्र एक भाषा है?

14 सितंबर: हिन्‍दी आपकी मातृभाषा है या आपके लिए मात्र एक भाषा है?

नई दिल्ली: आज हिन्दी दिवस है और इस मौके पर हम आपसे एक सवाल पूछेंगे कि हिन्दी आपकी मातृभाषा है या आपके लिए मात्र एक भाषा है? आज ही के दिन वर्ष 1949 में संविधान सभा ने हिन्दी को भारत की राजभाषा के रूप में स्वीकार किया था. कई बार लोग राजभाषा और राष्ट्रभाषा को … Read more

इंसान की और पाने की चाहत…आखिर कहां पर रुक जानी चाहिए?

इंसान की और पाने की चाहत…आखिर कहां पर रुक जानी चाहिए?

नई दिल्ली: जापान में एक कहावत है कि हम अपनी जीत से बहुत कम और अपनी हार से बहुत ज्यादा सीख सकते हैं. कल टेनिस की दुनिया में एक 18 साल की नई खिलाड़ी ने बहुत बड़ा खिताब जीत लिया जबकि एक ऐसा खिलाड़ी हार गया जो फाइनल मुकाबला जीतकर इतिहास रचने से सिर्फ एक … Read more

मौत पर विजय पाकर इंसान बनेगा ‘मृत्युंजय’? लैब में ‘अमृत’ बनाने की तैयारी

मौत पर विजय पाकर इंसान बनेगा ‘मृत्युंजय’? लैब में ‘अमृत’ बनाने की तैयारी

नई दिल्ली: सोमरस के बारे में तो आपने सुना और पढ़ा ही होगा अब यह ‘ग्लोबल’ होने जा रहा है. सोमरस के बारे में शास्त्रों में लिखा है कि देवता इसे चिर-आयु के लिए पीते थे, यानी जो सोमरस पी लेता है वो अमर हो जाता है और सदा युवा ही बना रहता है. यहां … Read more

धूमधाम से हुआ बप्पा का आगमन, यूं खुशहाल जीवन की राह दिखाते हैं विघ्नहर्ता श्री गणेश

धूमधाम से हुआ बप्पा का आगमन, यूं खुशहाल जीवन की राह दिखाते हैं विघ्नहर्ता श्री गणेश

नई दिल्ली: आत्महत्या का अर्थ होता है स्वयं की हत्या यानी अपने शरीर को नष्ट कर देना. लेकिन कई बार लोग जीते जीते अपनी आत्मा की भी हत्या कर देते हैं. जब वो दूसरों की गुलामी को स्वाकीर कर लेते हैं. कोई भी इंसान आत्महत्या तब करता है जब वो इच्छाओं के संसार में यहां … Read more

क्‍या सुसाइड है जीवन से हार? हर 40 सेकंड में जान दे रहा एक शख्स

क्‍या सुसाइड है जीवन से हार? हर 40 सेकंड में जान दे रहा एक शख्स

नई दिल्ली: DNA एक सकारात्मक न्यूज शो है. ये आपको उम्मीद और सकारात्मकता देता है, आपको लड़ने के लिए प्रेरित करता है. लेकिन कभी-कभी जीवन के ऐसे विषयों पर भी बात करना जरूरी होता है जो सकारात्मक नहीं होते. ऐसा ही एक विषय है आत्महत्या. आज वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेंशन डे (World Suicide Prevention Day) है. … Read more