पुलिस के हाथ लगा एक मोबाइल और खुल गया गांजे के जखीरे का राज! जानिए हैरान करने वाला मामला

चुन्नीलाल देवांगन/रायपुरः छत्तीसगढ़ सरकार नशे के कारोबार पर नकेल कसने के लिए नशे के सौदागरों के खिलाफ सख्ती बरत रही है. इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ पुलिस के हाथ एक अहम सबूत लगा है, जिससे पुलिस गांजे के पूरे जखीरे तक पहुंच सकती है. दरअसल पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनके पास से जब्द मोबाइल में गांजे के गोदाम का पता चला है. उस गोदाम में बड़ी मात्रा में गांजा के पैकेट रखे हैं. 

कैसे हुआ खुलासा
बता दें कि छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में पुलिस ने गांजा तस्करी के आरोप में 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया था. पुलिस ने आरोपियों के मोबाइल जब्त किए तो उनमें से एक मोबाइल में एक वीडियो था, जिसे देखकर पुलिस भी हैरान रह गई. दरअसल यह वीडियो गांजे के गोदाम का था, जिसमें करोड़ों रुपए का गांजा गोदाम में रखा दिखाई दे रहा था. फिलहाल पुलिस जांच कर इस गोदाम का पता लगाने में जुटी है. अगर पुलिस के हाथ गांजे का यह गोदाम लग जाता है तो नशे के खिलाफ लड़ाई में यह बड़ी जीत साबित होगी. 

बताया जा रहा है कि गांजे का गोदाम का यह वीडियो ओडिशा के मलकानगिरी के पास कदमगुड़ा क्षेत्र का है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. 

कई राज्यों में फैला है गांजे की तस्करी का जाल
बता दें कि गांजे की तस्करी का जाल कई राज्यों में फैला है. ओडिशा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश से लेकर दिल्ली तक गांजे की तस्करी की खबरें आए दिन सामने आती रहती है. जांच में पता चला है कि ओडिशा के झारसुगड़ा, संबलपुर, अंगुल आदि जिलों में चोरी-छिपे गांजे की खेती की जाती है और ओडिशा से ही गांजा देश के अन्य इलाकों में तस्करी द्वारा भेजा जाता है. 

छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले की सीमा ओडिशा और झारखंड से मिलती है. यही वजह है कि ओडिशा से गांजे जशपुर होते हुए छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार और दिल्ली तक भेजा जाता है. बीते दिनों जशपुर में गांजे की तस्करी कर रही एक कार ने दशहरे के दिन लोगों की भीड़ को कुचल दिया था. इसका वीडियो खूब वायरल हुआ था और पूरे देश में गांजे की इस तस्करी की चर्चा हुई थी. 

गांजा तस्कर ओडिशा से सस्ता गांजा खरीदकर उसे महंगे दामों पर अलग-अलग राज्यों में बेचते हैं. ओडिशा में 500-1000 रुपए किलो में बिकने वाला गांजा दिल्ली तक पहुंचते-पहुंचते 20-25 हजार रुपए किलो तक पहुंच जाता है.