ATS की अब तक सबसे बड़ी सफलता, नक्सलियों को हथियारों की सप्लाई करने वाले 9 गिरफ्तार

Ranchi: देश भर में उग्रवादी संगठनों और बड़े अपराधियों को बंदूक और गोलियां सप्लाई करने वालों की पहुंच देश के अर्धसैनिक बलों के भीतर तक है. झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) के एंटी टेररिस्ट स्क्वॉयड (Anti Terrorist Squad) द्वारा देश के छह राज्यों में की गयी छापामारी के दौरान इसका खुलासा हुआ है. 

एक दर्जन ठिकानों पर छापेमारी
एटीएस की इस कार्रवाई में एक दर्जन से भी ज्यादा ठिकानों पर छापे मारकर आर्म्स सप्लाई चेन से जुड़े नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इनके पास से 9 हजार राउंड से ज्यादा कारतूस, 14 पिस्टल, 21 मैगजीन, डेटोनेटर्स सहित कई अन्य सामान बरामद किये गये हैं. 

झारखंड पुलिस के आईजी अभियान अमोल विणुकांत होमकर ने गुरुवार को रांची के धुर्वा स्थित एटीएस हेडक्वार्टर में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेस में कहा कि हथियार सप्लायर्स के चेन को तोड़ने की दिशा में झारखंड एटीएस की यह अब तक की सबसे बड़ी सफलता है.

ये भी पढ़ें-नक्सलियों ने बिहार समेत 4 राज्यों में बुलाया इन 3 दिनों का बंद, जानिए किस वजह से डरे

BSF से रिटार्यड है किंगपिन
उन्होंने कहा कि इस पूरे गिरोह का एक बड़ा किंगपिन अरुण कुमार सिंह है, जो बीएसएफ से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर यह काम कर रहा था. वह बिहार के सारण जिले के सोनपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत शाहपुर गांव का रहने वाला है. उसकी निशानदेही पर पुलिस ने कुल 909 चक्र कारतूस की बरामदगी की है. एटीएस टीम ने उससे मिले सुराग के आधार पर पंजाब के फिरोजपुर स्थित बीएसएफ की 116 नंबर बटालियन के एक जवान कार्तिक उरांव को गिरफ्तार किया. वह झारखंड के सरायकेला-खरसावां का रहने वाला है. बीएसएफ के अधिकारियों के सहयोग से की गयी छापामारी में कैंप से कुल 8304 कारतूस, खाली खोखा, डेटोनेटर, मैगजीन तथा अन्य सामग्री जब्त की गयी.

एटीएस के एसपी प्रशांत आनंद ने बताया कि हमारी अलग-अलग टीमों ने बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और मध्यप्रदेश में अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी की. हथियार सप्लायरों के इस चेन में सबसे पहले कश्मीर के पुलवामा स्थित सीआरपीएफ बटालियन का एक भगोड़ा अविनाश कुमार शर्मा को पिछले 13 नवंबर को पकड़ा गया था. वह बिहार के गया जिला अंतर्गत इमामगंज थाने के रानीगंज का रहने वाला है. 

ये भी पढ़ें-रांची में गिरफ्तार हुआ ‘छोटू’, 80 किलोमीटर तक पुलिस का निकाला ‘पसीना’

आनंद ने कहा कि शर्मा की निशानदेही पर गिरोह से जुड़े ऋषि कुमार को पटना एवं पंकज कुमार सिंह को झारखंड के धनबाद से गिरफ्तार किया गया था. इन्हीं तीनों से मिली सूचनाओं के आधार पर अलग-अलग टीमें गठित कर देश के छह राज्यों में छापेमारियां की गयीं. महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश की सीमा पर स्थित बुलढाना में की गयी छापामारी में 14 पिस्टल, 21 मैगजीन बरामद किये गये और यहां तीन लोग गिरफ्तार किये गये.

बताया गया कि हथियार सप्लायरों का यह चेन पूरे देश भर में उग्रवादियों और संगठित गिरोहों को हथियार मुहैया कराता है. ये लोग ऑर्डिनेंस फैक्टरी से हथियार मंगाते थे. इस गिरोह का संपर्क देश के अलग-अलग राज्यों में चलायी जा रही हथियार फैक्टरियों से भी है. इनसे मिले लिंक्स के आधार पर देश की दूसरी सुरक्षा एजेंसियां कई ठिकानों पर छापामारी कर रही हैं. इस पूरे अभियान का नेतृत्व एएसपी कपिल चौधरी कर रहे थे.

(इनपुट-आईएएनएस)