महंत नरेंद्र गिरी मौत मामला: CJM कोर्ट में हुई सुनवाई, केस को जिला जज के यहां ट्रांसफर करने का निर्देश

मोहम्मद गुफरान/प्रयागराज: महंत नरेंद्र गिरी (Narendra Giri death case)  मौत मामले में गुरुवार को सीजेएम कोर्ट (CJM Court) में सुनवाई हुई. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तीनों आरोपियों को नैनी सेंट्रल जेल से कोर्ट में पेश किया गया. सीजेएम हरेंद्रनाथ ने मामले की सुनवाई करते हुए केस को जिला जज के समक्ष ट्रांसफर कर दिया. 

जल्द शुरू हो सकता है ट्रायल
कोर्ट ने कहा कि धारा 306 के तहत दर्ज मामलों में मजिस्ट्रेट को सुनवाई का अधिकार नहीं है. लिहाजा इस मामले को जिला जज के यहां ट्रांसफर किया जाए. ऐसे में माना जा रहा है कि अब इस मामले में कोर्ट जल्द ही ट्रायल शुरू कर सकती है. क्योंकि 20 नवंबर को ही सीबीआई ने मामले में तीनों आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है, कोर्ट में दाखिल सीबीआई की चार्जशीट में महंत नरेंद्र गिरी की मौत को सुसाइड माना गया है.

6  दिसंबर को होगी मामले की अगली सुनवाई
सीबीआई की तरफ से दाखिल चार्जशीट में आनंद गिरी, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को ही महंत नरेंद्र गिरी की मौत का आरोपी पाया गया है. फिलहाल 6 दिसंबर 2021 को मामले की अगली सुनवाई होगी. 22 सितंबर से तीनों आरोपी प्रयागराज के नैनी सेंट्रल जेल में बंद हैं. मुख्य आरोपी आनंद गिरि की जमानत अर्जी सीजेएम कोर्ट के यहां से खारिज़ भी हो चुकी है. 

महंत नरेंद्र गिरी ने खुद डिलीट करवा दी थीं सीसीटीवी फुटेज
वहीं सीबीआई की तरफ से कोर्ट में दाखिल चार्जशीट से यह भी खुलासा हुआ है कि मौत से पहले श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी से सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को महंत नरेंद्र गिरी ने खुद डिलीट करवा दी थी. इसके लिए उन्होंने सीसीटीवी लगाने वाले को मठ बुलवाया था. हालांकि तकनीकी समस्या के कारण एक डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर (डीवीआर) से फुटेज को नहीं हटाया जा सका. इसी फुटेज से पता चला है कि महंत अपने सेवादार से नायलान की रस्सी लेकर गेस्ट रूम में गए थे. इसके बाद उनका संदिग्ध दशा में शव मिला था.

नहीं साफ हो सकी इसके पीछे की वजह 
सीबीआई की जांच में यह तो पता चल गया कि महंत ने फुटेज हटवाए थे, लेकिन इसके पीछे वजह क्या थी. यह साफ नहीं हो सका है. इतना ही नहीं सीबीआई कि चार्जशीट में यह भी पता चला है कि घटना से आठ दिन पहले 12 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरी ने हरिद्वार जाने की योजना बनाई थी, लेकिन खराब मौसम के कारण वह नहीं जा पाए थे. फिलहाल सीबीआई अभी मामले में जांच कर रही है, ऐसे में माना जा रहा है कि सीबीआई कि अगली चार्जशीट सप्लीमेंट्री में कुछ नए नाम भी इस सनसनीखेज मौत मामले में साजिशकर्ता के तौर पर सामने आ सकतें हैं. 

WATCH LIVE TV