Rajasthan: पुलिस थानों में स्वागत कक्ष का किया गया निर्माण, दिए गए ये दिशा-निर्देश

Jaipur: खाकी का नाम सुनते ही आमजन के मन में भय और डर का माहौल पैदा हो जाता है. इसी के चलते आमजन अपनी किसी भी समस्या को लेकर पुलिस थानों में जाने से कतराते है. पुलिस के प्रति इन्हीं विचारों को बदलने और बेहतर छवि को बनाए रखने के लिए आमजन के लिए पुलिस थानों में स्वागत कक्ष का निर्माण किया गया है. जयपुर पुलिस इनकी रैंकिंग सुधारने के प्रयास कर रही है.

पुलिस मुख्यालय (Police Headquarters) के मिले निर्देशानुसार जयपुर कमिश्नरेट (Jaipur Commissionerate) में स्वागत कक्ष बना दिए गए हैं. मिले निर्देशों के अनुसार, इस स्वागत कक्ष में आगंतुक रजिस्टर कंप्यूटर FIR से जुड़े रजिस्टर, आमजन के लिए बैठने की सुव्यवस्थित व्यवस्था, टेबल-कुर्सी समेत एक पुलिस अधिकारी को नियुक्त किए जाने के निर्देश दिए गए हैं.  

यह भी पढ़ेंः Rajasthan में इस साल अपराध के मामले फिर से बढ़े, प्रदेश के लिए चिंता का विषय

स्वागत कक्ष बन जाने के बाद नॉर्थ जिला डीसीपी पर इस देश को अपने एक नई कवायद शुरू की है. इस कवायद के तहत सभी थानों में बनाए गए स्वागत कक्षओं को लेकर संबंधित थाना को मार्किंग दी जाएगी. मार्किंग के हिसाब से थाना में बेहतर स्वागत कक्ष का निर्माण करने और इसमें बेहतर सुविधाएं विकसित किए जाने पर संबंधित पुलिस थाना को अवार्ड से नवाजा जाएगा.

वहीं, जिस थाने में तय मानकों के अनुसार स्वागत कक्ष का निर्माण नहीं किया गया या फिर उसमें बेहतर सुविधाएं विकसित नहीं की है. इसके लिए संबंधित थाना प्रभारी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी. इस प्रक्रिया के तहत एसीपी को इसके निरीक्षण की जिम्मेदारी सौंपी है. 

इतना ही नहीं संबंधित एसीपी अपने स्वयं के सर्किल को छोड़कर अन्य दूसरे सर्किल से जुड़े हुए थानों का निरीक्षण करेंगे और उन्हें बेहतर स्वागत कक्ष के निर्माण करने और सुविधाएं विकसित करने पर मार्किंग प्रदान करेंगे. अन्य सर्किल के निरीक्षण किए जाने पर मार्किंग की इस प्रक्रिया में पारदर्शिता भी रहेगी. 

डीसीपी परिस देशमुख के मुताबिक, सभी थानों में स्वागत कक्ष के निर्माण को लेकर यह कंपटीशन शुरू किया गया है. इस प्रतिस्पर्धा से थानों के स्वागत कक्ष बेहतर तरीके से बन सकेंगे और उनमें तय मानकों के अनुसार सुविधाएं भी विकसित हो सकेंगी. नार्थ जिले में करीब 10 से ज्यादा स्वागत कक्ष का निर्माण किया गया है. स्वागत कक्ष के बन जाने के बाद परिवार जनों को इसका खासा लाभ मिलेगा. साथ ही पुलिसकर्मियों और आमजन के बीच बेहतर समंवय भी स्थापित होगा.