AIMIM अवसरवादी पार्टी, ओवैसी हर वो काम करते हैं, जिसका फायदा बीजेपी को हो-अजीज कुरैशी

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी (Aziz Qureshi) बुधवार अलीगढ़ दौरे (Aligarh Visit) पर थे. कुरैशी ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के ओल्ड ब्वॉयज लॉज में मीडिया से बातचीत की. उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र खत्म हो रहा है. लोकतंत्र की हत्या हो रही है, इसको बचाने के लिए सारी सकुलर फोर्से को एक प्लेटफार्म पर इकठ्ठा होना चाहिए और मिल जुलकर इस रावण राज का खात्मा करना चाहिए. वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी का बयान भी सामने आया जिसमें उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की बी टीम है. 

सभी सेकुलर पार्टी को एक साथ मिलकर लड़ना चाहिए
अजीज कुरैशी ने मेरा यहां आने का मकसद, आजकल जो राज है राक्षसों का जिस में जम्हूरियत का कत्ल किया जा रहा है, इस को बचाने के लिए 2022 के इलेक्शन में बीजेपी को हराने के लिए सभी सेकुलर पार्टी को एक साथ मिलकर लड़ना चाहिए. मैं चाहता हूं और कोशिश भी कर रहा हूं तमाम सेकुलर पार्टी एक प्लेटफार्म पर आ कर एक साथ रावण राज का खात्मा करें. 

विवादित किताब मामले में वसीम रिजवी पर FIR, इस्लाम को बदनाम करने का लगा आरोप, कल्बे जवाद ने दी तहरीर

ओवैसी हर वो काम करते हैं, जिसका फायदा बीजेपी को हो
अजीज कुरैशी ने कहा AIMIM, बीजेपी की बी टीम है, वह सेकुलर पार्टी नहीं, ओवैसी हर वो काम करते हैं जिससे बीजेपी को फायदा होता है. 2022 के उत्तर प्रदेश इलेक्शन में मुस्लिम वोट हासिल करने के लिए सभी सियासी जमात में लग गई है. जहां एक तरफ AIMIM को इलज़ामात लगते रहते हैं कि वह बीजेपी की बी-टीम है. एआईएमआईएम पार्टी नहीं है, बल्कि अवसरवादी है. उसका धर्मनिरपेक्ष से कोई मतलब नहीं है.

CAA को भी वापस लेना चाहिए
कृषि कानून को वापस लेने के ऐलान के बाद CAA को भी वापस लेने के सवाल का जवाब देते हुए अजीज कुरैशी ने कहा, हुकूमत को CAA को भी वापस लेना चाहिए क्योंकि यह संविधान के खिलाफ है. इसमें लोकतंत्र का कत्ल किया गया है. इसमें सीएए में मुसलमानों को अलग रखा गया है जिससे लोकतंत्र का कत्ल हुआ है इसलिए सरकार को इसको भी वापस लेना चाहिए.

राजनीतिक पार्टियों के बयानों से ऐसा लगता है कि 2022 के इलेक्शन में सबसे ज्यादा खतरा पार्टियों को ओवैसी की पार्टी से है. उनको लगता है कि इस बार मुस्लिम वोट ओवैसी के पास चला जाएगा. शायद इसीलिए ही यह एक दूसरे की ओवैसी की पार्टी को बी टीम बताते हैं.

WATCH LIVE TV