PM मोदी कल रखेंगे एशिया के चौथे सबसे बड़े जेवर एयरपोर्ट की नींव, जानिए क्यों है खास

नोएडा: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) गुरुवार को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Noida International Airport) का शिलान्यास कर पश्चिमी यूपी में विकास की आधारशीला रखने जा रहे हैं. 25 नवंबर को एशिया के चौथे सबसे बड़े एयरपोर्ट का भूमिपूजन होना है, जिसको लेकर प्रशासन युद्धस्तर पर जुटा है साथ ही कार्यक्रम की पूरी तैयारियां अपने अंतिम चरण में हैं. इस कार्यक्रम के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी सम्मिलित होंगे.

आधार वेरिफिकेशन के लिए अब नहीं होगी फिंगरप्रिंट की जरूरत, UIDAI बना रहा ये खास प्लान

एशिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा जेवर
जेवर के लोगों को लंबे वक्त से एयरपोर्ट का इंतजार था. 25 नवंबर को ये इंतजार खत्म हो जाएगा . बता दें, साल 2024 तक पहले फेज का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा. जेवर में एयरपोर्ट बनने से ना सिर्फ NCR को विकास के पंख लगेंगे बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश को डेवलपमेंट की मदद मिलेगी. जेवर एयरपोर्ट भारत का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा, लिहाजा इसलिए ही शिलान्यास पर भव्य कार्यक्रम की योजना बनाई गई है. जेवर एयरपोर्ट दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा, जिसमें यात्रियों के लिए विश्वस्तरीय सुविधाएं उपलब्ध होंगी.

UPPSC Recruitment: सरकारी अस्पतालों में करीब 1 हजार पदों पर निकली वैकेंसी, यहां जानें डिटेल

जानें क्या हैं खासियत
आपको बता दें, अभी देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट दिल्ली का इंदिरा गांधी इंटरनेशन एयरपोर्ट है, लेकिन जब जेवर एयरपोर्ट अपने पूरे क्षेत्रफल में बनकर तैयार हो जाएगा. तब वो फ्लोरिडा के हवाईअड्डे को पछाड़ कर दुनिया का चौथा बड़ा एयरपोर्ट बन जाएगा. जेवर एयरपोर्ट बन जाने से दिल्ली देश का ऐसा पहला शहर बन जाएगा, जिसके 70 किलोमीटर की रेंज में 3 हवाई अड्डे होंगे.

इस एयरपोर्ट से आने वाले दिनों में पश्चिमी यूपी में विकास का खासा पहले से ज्यादा मजबूत होगा. जेवर एयरपोर्ट को तीन एक्सप्रेस-वे से जोड़ा जाएगा. इतना ही नहीं जेवर एयरपोर्ट तक मेट्रो कनेक्टिविटी की जाएगी ताकि लोगों को एयरपोर्ट पहुंचने में परेशानी का सामना नहीं करना पड़े. इसके लिए एयरपोर्ट से IGI और ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो चलेगी. इस सब के अलावा दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का एक स्टेशन भी एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग पर बनाया जाएगा. 

इसके अलावा आपको बता दें, एयरपोर्ट के बन जाने से पश्चिमी यूपी में भारी निवेश की उम्मीद जताई जा रही है. कहा जा रहा है कि जेवर एयरपोर्ट से ना सिर्फ विकास की नींव तैयार करेगा बल्कि रोजगार के अवसर भी बढ़ाएगा.

सुरक्षा के हुए कड़े इंतजाम
उधर, 25 नवंबर को पीएम के दौरे को देखते हुए एसपीजी की टीम भी जेवर पहुंची और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. पीएम के कार्यक्रम में पांच स्तर की सुरक्षा होगी, जिसमें स्थानीय पुलिस के अलावा पैरामिलिट्री की 25 से ज्यादा कंपनियां भी सुरक्षा में तैनात रहेंगी. इसके साथ ही 16 आईपीएस समेत 5 हजार पुलिसकर्मी चप्पे-चप्पे की निगरानी रखेंगे.

दो स्टेज में होगा एयरपोर्ट का विकास 
सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा नोएडा इण्टरनेशनल एयरपोर्ट के प्रथम चरण के विकास के लिए 1,334 हेक्टयर (लगभग 3,300 एकड़) भूमि का अधिग्रहण किया गया है. इसके निर्माण के लिए ग्लोबल बिडिंग के माध्यम से एवीएशन सेक्टर की कम्पनी ज्यूरिख एयरपोर्ट इण्टरनेशनल एजी का चयन किया गया है. प्रवक्ता ने बताया कि नोएडा इण्टरनेशनल एयरपोर्ट का विकास दो स्टेज में किया जाएगा. प्रथम स्टेज में यह एयरपोर्ट दो रन-वे का होगा, जो दूसरे स्टेज में बढ़ कर पाँच रन-वे का हो जाएगा. दो रन-वे का यह एयरपोर्ट 70 मिलियन यानी 07 करोड़ यात्रियों की वार्षिक क्षमता का होगा. इस पर लगभग 30 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे.

प्रवक्ता ने बताया कि नोएडा इण्टरनेशनल एयरपोर्ट के पास यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में अनेक महत्वपूर्ण परियोजनाएं विकसित की जा रही हैं. इनमें फिल्म सिटी, मेडिकल डिवाइस पार्क, इलेक्ट्रॉनिक सिटी, एपैरल पार्क आदि सम्मिलित हैं. उत्तर प्रदेश डिफेंस इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर का अलीगढ़ नोड भी इस क्षेत्र के निकट है. उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में यह सम्पूर्ण क्षेत्र औद्योगिक और सर्विस सेक्टर की गतिविधियों का सबसे बड़ा केन्द्र बनेगा.

WATCH LIVE TV