बच्चों से पहले स्कूलों में वायरस ने दी दस्तक, क्या फिर लौट रहा है कोरोना ?

Jaipur: राजधानी जयपुर सहित राजस्थान में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. सबसे ज्यादा स्कूली बच्चे चपेटे में आ रहे हैं. 15 नवंबर से प्रदेश में 100 फीसदी क्षमता के साथ स्कूल खुल रहे हैं, लेकिन स्कूल खुलने से पहले अभिभावकों ने जो चिंता जाहिर की थी…वो सच होती दिख रही है. स्कूल जाने वाले बच्चों के कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) होने का सिलसिला शुरू हो गया है. महापुरा के एक निजी स्कूल में तकरीबन एक दर्जन बच्चे कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. जयश्री पेड़ीवाल इंटरनेशनल स्कूल के दो बच्चे पहले कोरोना संक्रमित मिले.

उसके बाद उनके संपर्क में आने वालों छात्रों की जांच कराई गई. जांच रिपोर्ट आने के बाद 11 बच्चे कोरोना संक्रमित निकले. रिपोर्ट देख कर स्कूल प्रबंधन के हाथ पांव फूल गए. उधर, शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग में भी हड़कंप मच गया. सरकार (Rajasthan Government) को भी सांप सूंघ गया. स्कूली बच्चों में बढ़ते कोरोना के मामले को लेकर शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने बुधवार को शिक्षा संकुल में उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है. जिसमें शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग और गृह विभाग के अधिकारी मौजूद रहेंगे.

यह भी पढ़ें – इंटरनेट बंद करने से पहले जनता को बताना होगा, संभागीय आयुक्तों को मिली पुन: शक्तियां

दरअसल गृह विभाग की गाइडलाइन के हिसाब से ही 15 नवंबर से 100 फीसदी क्षमता के साथ स्कूल खोले गए थे, लेकिन स्कूली बच्चों में कोरोना के ताजा मामलों से इस फैसले पर दोबारा विचार करने का दबाव बन गया है. शिक्षा मंत्री ने कहा है कि बैठक में ऑनलाइन और ऑफलाइन क्लासेज को लेकर भी चर्चा की जाएगी. फिर उचित फैसला लिया जाएगा. स्कूल खोलने से पहले जो सवाल खड़े हुए थे. वो सवाल आज भी कायम हैं…क्या सिस्टम 100 फीसदी क्षमता के साथ स्कूल शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार था. स्कूल खोले जाने से पहले कुछ अभिभावकों ने बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर सवाल खड़े किए थे…वो सवाल आज भी कायम है.

कोरोना गाइडलाइन में रिलेक्सेशन मिलने के बाद 15 नवंबर से प्रदेश के तमाम स्कूल फुल स्ट्रेंथ के साथ खुलने लगे हैं, लेकिन ये फैसला सुकून वाला नहीं दिख रहा है. क्योंकि कुछ स्कूलों के छात्रों के कोरोना संक्रमित होने की खबर मिलने से सिस्टम में हड़कंप मच गया है. महापुरा के जयश्री पेड़ीवाल इंटरनेशनल स्कूल के तकरीबन एक दर्जन छात्र कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. शुरू में दो छात्रों में कोरोना के लक्षण दिखे, जिनकी जांच कराई गई और वे पॉजिटिव पाए गए. फिर उनके संपर्क में आए 185 छात्रों का कोरोना टेस्ट हुआ जिनमें से 12 कोविड पॉजिटिव निकले. जयपुर में नवंबर माह में अब तक कुल 19 बच्चे संक्रमित मिल चुके हैं. इसमें से ढाई साल के एक बच्चे की इलाज के दौरान आरयूएचएस में मौत भी हो गई थी. बड़े स्कूलों की बात करें तो सवाई मानसिंह स्कूल में कुछ बच्चे पॉजिटिव आए थे. वहीं, नीरजा मोदी स्कूल का भी एक स्टूडेंट पिछले दिनों पॉजिटिव आया था. राजस्थान में सोमवार को 22 नए कोरोना संक्रमित दर्ज किए गए और एक्टिव केसेज की संख्या 131 हो चुकी है. आज की बात करें तो जयपुर में कोरोना के 18 नए केस दर्ज हुए हैं.

यह भी पढ़ें – राजनीति पर नहीं धर्म नीति पर चलती हूंः वसुंधरा राजे

राज्य सरकार के सामने अब सबसे बड़ी चुनौती यही है कि स्कूलों में कैसे कोरोना प्रबंधन किया जाए. क्यूंकि अब बैक टू बैक स्कूली बच्चे कोरोना की जद में आ रहे हैं. इसी चिंता को देखते हुए राज्य के नए शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने बुधवार को एक बड़ी बैठक बुलाई है.

जयपुर में हर दिन कोरोना के नए मामले आ रहे हैं. 23 नवंबर यानी मंगलवार को 18 नए केस मिले. 22 नवंबर को जयपुर में 11 नए केस आए. 21 नवंबर को 9 नए केस, 18 नवंबर को 12 नए केस और 16 नवंबर को 10 नए केस मिले. वहीं, राजस्थान में 22 नवंबर तक 131 कोरोना के एक्टिव केस दर्ज हुए. जिनमें सबसे ज्यादा 76 एक्टिव केस जयपुर में. जबकि 20 केस अजमेर में दर्ज किए गए. कोरोना के साथ साथ डेंगू ने भी राजस्थान में नए रिकॉर्ड बना दिए हैं. राजस्थान में इस साल सबसे ज्यादा 17 हजार 86 डेंगू पॉजिटिव के मामले दर्ज किये गये हैं और डेंगू ग्रसित 50 मरीजों की मौत दर्ज की गई है.