Abhinandan ने कैसे पुराने MIG-21 से मार गिराया था पाकिस्तान का हाइटेक F-16! जानिए कैसे हुआ ये कमाल

नई दिल्लीः राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में देश के वीर जवानों के शौर्य का सम्मान करते हुए उन्हें वीरता पुरस्कारों से सम्मानित किया. इस दौरान बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो और पाकिस्तान के आधुनिक फाइटर जेट F-16 को धूल चटाने वाले ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्धमान (Abhinandan Varthaman) को वीर चक्र से सम्मानित किया गया. बता दें कि अभिनंदन वर्धमान ने साल 2019 में बालाकोट एयर स्ट्राइक (Balakot Air Strike) के बाद बॉर्डर पर हुई डॉग फाइट में पाकिस्तान के लड़ाकू विमान एफ-16 को मार गिराया था. इस दौरान ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्धमान (Abhinandan Varthaman) का खुद का विमान मिग-21 भी क्षतिग्रस्त हो गया था और उन्हें पाकिस्तान ने पकड़ लिया था. हालांकि बाद में भारत के दबाव में पाकिस्तान को अभिनंदन वर्धमान को छोड़ना पड़ा था. 

जानिए कैसे हुई थी MIG-21 और F-16 की Dog Fight?
बता दें कि दो लड़ाकू विमानों के बीच हवा में होने वाली लड़ाई को डॉगफाइट कहा जाता है. बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की वायुसेना ने अपने आधुनिक एफ-16 फाइटर जेट, जेएफ-17 और मिराज -5 फाइटर जेट के साथ भारतीय सीमा में प्रवेश किया. इस पर जम्मू स्थित भारतीय वायुसेना के एयरबेस से 6 मिग-21 विमानों ने पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों को खदेड़ने के लिए उड़ान भरी. इनमें से एक मिग-21 लड़ाकू विमान में ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्धमान भी थे. 

ग्रुप कैप्टन अभिनंदन ने हवा में पाकिस्तानी वायुसेना के एक एफ-16 विमान को इंटरसेप्ट किया और उस पर शॉर्ट रेंज की एयर टु एयर मिसाइल Vympel R-73 से निशाना साधा और एफ-16 को मार गिराया. हालांकि इसी दौरान ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्धमान (Abhinandan Varthaman) का खुद का विमान भी पाकिस्तानी मिसाइल का निशाना बन गया.

जानिए क्यों ऐतिहासिक है ये उपलब्धि?
मिग-21 फाइटर जेट से एफ-16 फाइटर जेट को गिराने की पूरी दुनिया में चर्चा हुई. इसकी वजह ये है कि मिग-21 सोवियत संघ के जमाने का विमान हैं, जबकि अमेरिका में बने एफ-16 फाइटर जेट दुनिया के आधुनिकतम फाइटर जेट माने जाते हैं. यही वजह है कि डॉगफाइट में मिग-21 द्वारा एफ-16 को मार गिराना ऐसा ही था जैसे एंबेसडर कार से मर्सिडीज को उड़ा देना! पश्चिमी डिफेंस एक्सपर्ट ने इस मामले पर कुछ नहीं बोला और कई लोगों ने इसकी सत्यता पर सवाल भी खड़े किए. 

15 साल पहले भी भारतीय वायुसेना कर चुकी है ये असंभव काम!
दुनियाभर के डिफेंस एक्सपर्ट भले ही इस पर कुछ नहीं बोल रहे हैं लेकिन 15 साल पहले भी भारतीय वायुसेना के पायलट्स ने यह कारनामा किया था. हालांकि यह एक सैन्य अभ्यास के दौरान हुआ था. बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार, साल 2004 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर में Cope India exercise हुई थी. जिसमें अमेरिकी वायुसेना के एफ सीरीज के फाइटर जेट भी शामिल हुए थे.

इस एक्सरसाइज के दौरान भारतीय पायलटों ने मिग-21 विमान से अमेरिकी वायुसेना के एफ सीरीज के विमानों को कई बार छकाया. इस एक्सरसाइज में भारतीय पायलटों की हिम्मत, उनकी सूझबूझ को सभी ने सराहा. इस एक्सरसाइज से ये बात साबित हो गई कि जिन एफ-सीरीज के विमानों को अमेरिका अजेय मानता है, उन्हें भी हराया जा सकता है. अमेरिकी वायुसेना के टॉप कमांडरों ने भी भारतीय वायुसेना के पायलटों की दक्षता की तारीफ की थी.