जयपुर शहर के दौरे पर निकली ग्रेटर मेयर, शहर की दुर्दशा देखकर बोली-माथा हो गया खराब

Jaipur: राजधानी जयपुर नगर निगम ग्रेटर की मेयर शील धाभाई (Sheel Dhabhai Mayor) आज शहर की सफाई व्यवस्था का औचक निरीक्षण करने निकली. मेयर ने गांधी नगर (Gandhi Nagar), मालवीय नगर (Malviya Nagar) और सांगानेर (Sanganer) क्षेत्र की प्रमुख सड़कों की स्थिति देखी तो कई जगह गंदगी और सीवर लाइन का पानी बहता देख बेहद गुस्सा हो गई. उन्होंने इस मामले में जेईएन और सफाई कर्मचारियों को नोटिस दे दिया.

गांधी सर्किल जेएलएन मार्ग से शहर के दौरे पर निकली महापौर जेएलएन मार्ग होते हुए सरस रेलवे ओवरब्रिज पर जब पहुंची तो वहां उन्हें ओवरब्रिज के किनारे बने पिकॉक गार्डन के पास सीवर लाइन के चैम्बर से पानी बहता दिखा. वहां मौजूद स्थानीय लोगों ने बताया कि यहां करीब एक महीने से ज्यादा समय हो गया और कई बार शिकायत करने के बाद भी सीवर लाइन ठीक नहीं हुई. इस पर मेयर ने संबंधित क्षेत्र के जेईएन को नोटिस जारी करने और मौके पर काम शुरू करवाकर इसे जल्द से जल्द ठीक करवाने के निर्देश दिए. 

यह भी पढ़ें-खेल मंत्री Ashok Chandna का जन्मदिन आज, इस अवसर पर आयोजित किया गया रक्तदान शिविर

मेयर शील धाभाई जब वार्ड 134 स्थित हाजिरीगाह पर पहुंची और वहां सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति चैक की तो दंग रह गई. उपस्थिति रजिस्टर में 33 कर्मचारियों का नाम था, लेकिन मौके पर केवल 10 जनों की ही उपस्थिति शो हो रही थी. शेष 23 कर्मचारियों के नाम के आगे न तो अनुपस्थिति दर्ज थी और न ही छुट्‌टी की दरखास्त. इस पर मेयर ने यहां मौजूद जमादार महावीर और केशव को कारण बताओं नोटिस जारी करने के निर्देश दिए. इसी तरह वार्ड 86 में 20 कर्मचारियों में से केवल 14 ही प्रजेंट दिखे, जबकि 6 कर्मचारियों के आगे न तो उपस्थिति दिखी और न ही छुट्‌टी की दरखास्त. इससे नाराज होकर मेयर ने सफाई निरीक्षक नन्दकिशोर, जमादार हमीद और बाबूलाल को कारण बताओं नोटिस जारी करने के लिए कहा.

मालवीय नगर के बाद मेयर सांगानेर क्षेत्र में पहुंची. यहां कई जगह गंदगी के ढेर दिखे, इसके अलावा सांगानेर के मैन बाजार में व्यापारियों ने फुटपाथ और रोड तक अतिक्रमण कर रखे थे, जिन्हें हटवाने के निर्देश दिए. इसके अलावा 17 व्यापारियों के चालान काटते हुए उनसे कुल 10 हजार 400 रुपए का फाइन वसूला.

यह भी पढ़ें-किसानों के हितों को लेकर BJP ने प्रदेश सरकार से की मांग, कहा- केंद्र सरकार MSP पर बाजरे की खरीद के लिए है तैयार

बहरहाल, मेयर शील धाभाई के दौरे से पहले आयुक्त के निर्देशों पर भी सभी जोन उपायुक्तों ने दो दिन पहले अपने-अपने क्षेत्रों में सफाई व्यवस्था और सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति चेक की थी और 125 से ज्यादा सफाईकर्मी अनुपस्थित मिले थे. उसके बावजूद हालात नहीं बदले.