माफिया अतीक अहमद के करीबी जैद खालिद ने बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा से दिया इस्तीफा, ये है वजह

मोहम्मद गुफरान/यागराज: बाहुबली माफिया अतीक अहमद के करीबी और भाजपा काशी क्षेत्र अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के नवनियुक्त उपाध्यक्ष मोहम्मद जैद खालिद को आखिरकार इस्तीफा देना पड़ गया. सोशल मीडिया पर उनका दिया गया रेजिग्नेशन लेटर वायरल हो रहा है. इसमें खालिद ने लिखा है कि पार्टी ने उन्हें काशी क्षेत्र अल्पसंख्यक मोर्चा का उपाध्यक्ष चुना था, जिसके लिए खालिद आभारी हैं. आगे लिखा कि उन्होंने पद मिलने के बाद से ही सभी जिम्मेदारियां निभाईं और बहुत कुछ नया भी सीखा. हालांकि, बताया जा रहा है कि पार्टी में विरोध शुरू होने के बाद अतीक के करीबी जैद खालिद को अपना पद छोड़ना पड़ा है. पार्टी ने भी जैद खालिद का इस्तीफा मंजूर कर लिया है.

Selective Politics: कांग्रेस के लिए ‘लखीमपुर’ मुद्दा है, लेकिन राजस्थान में दलितों पर अत्याचार पर राहुल-प्रियंका चुप

जैद खालिद को लेकर इस वजह से हुआ विरोध
इस्तीफे में जैद खालिद ने पिता की बीमारी को वजह बताया है और कहा है कि हाल ही में उनके पिता का कैंसर डायग्नोज हुआ है. ऐसे में उनका देखभाल करना खालिद की प्राथमिकता है. इसलिए वह भाजपा काशी क्षेत्र अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष का पद छोड़ रहे हैं. बता दें, दो महीने पहले गुपचुप तरीके से माफ़िया अतीक के करीबी जैद खालिद को अल्पसंख्यक मोर्चा काशी प्रांत का उपाध्यक्ष बनाया गया था. वहीं, यह बात भी सामने आ रही है कि बीजेपी के एक कद्दावर नेता की शह पर माफ़िया अतीक के करीबी को यह पद मिला था. ऐसे में जैद खालिद को उपाध्यक्ष बनाए जाने पर पार्टी के अंदर विरोध शुरू हो गया था.

Lakhimpur Kheri Case को लेकर आज राष्ट्रपति से मिलेंगे राहुल गांधी, रख सकते हैं ये बड़ी मांग

कई मुकदमें दर्ज, घर पर भी चला बुलडोजर
बता दें, जैद खालिद के खिलाफ प्रयागराज में जमीन कब्जाने समेत कई आपराधिक मुकदमें दर्ज हैं. इतना ही नहीं, वह अतीक अहमद के करीबी शूटर आबिद प्रधान का दामाद भी है. जैद खालिद प्रयागराज के बमरौली इलाके का रहने वाला है. बताया जाता है कि अतीक अहमद के जेल जाने से पहले उसकी प्रॉपर्टी का कारोबार जैद खालिद ही संभालता था. वहीं, जब  माफियाओं और उनसे जुड़े लोगों की संपत्तियों पर जब बुलडोजर चल रहे थे, तो खालिद के उमरी स्थित मकान पर भी बुलडोजर चला था. इसके अलावा, बमरौली उपरहार स्थित उसके मकान पर नोटिस भी चस्पा किया गया था. हालांकि, कोविड महामाी फैलने की वजह से कार्रवाई पर रोक लगा दी गई थी. 

WATCH LIVE TV