Nagaur: नई रॉयल्टी दरों से महंगा हुआ मार्बल पत्थर, बढ़ी हुई दरें घोषणा के साथ ही हुई लागू

Nagaur: राज्य सरकार (Rajasthan Government) द्वारा हाल ही में प्रदेश में खनिजों पर रॉयल्टी की दरों को बढ़ाया है. बढ़ी दरों के बाद मार्बल पत्थर महंगा हो गया है क्योंकि राज्य सरकार के आदेश के बाद मार्बल की रॉयल्टी रेट में 20 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी कर दी है. वहीं, आदेश के तुरंत बाद ही रॉयल्टी वसूली नाकों पर सोमवार मध्यरात्रि से नई दरों से रॉयल्टी वसूली शुरू कर दी गई है. 

यह भी पढ़ेंः रक्षा मंत्रालय ने कैंटोंमेंट क्षेत्र में शुरू किया ई पोर्टल, प्रदेश के लोगों को मिलेगी राहत

खान विभाग ने सोमवार को एक गजट नोटिफिकेशन जारी कर बढ़ी दरों की सूचना जारी की है. इसमें मार्बल के अलावा बजरी, सैण्डस्टोन, लाईमस्टोन, चाइना क्ले, बॉल क्ले, क्वार्टजाईट, डोलोमाईट पत्थर सहित अन्य सभी प्रकार के मिनरल पर भी रॉयल्टी रेट में बढ़ोतरी कर दी है. बगैर रॉयल्टी चुकाए निकलने का प्रयास करने वाले वाहनों के खिलाफ कठोर कार्रवाई कर जुर्माना वसूला जाएगा. अब नए आदेशों में मकराना मार्बल स्लेब पर रॉयल्टी दर 420 रुपये प्रति टन से बढ़ाकर सीधे 500 रुपये प्रति टन कर दी गई है. रॉयल्टी राशि का 10 फीसदी DMFT और 2 फीसदी RSMET चार्ज भी अतिरिक्त वसूला जाएगा. अब मार्बल स्लेब के खरीदार को मकराना से बाहर मार्बल स्लैब ले जाने पर प्रति टन कुल 560 रुपये का भुगतान करना होगा, जिसमें सभी चार्ज शामिल हैं. 

मार्बल की एक तरफ 35 सेमी और अधिक चौड़ाई के मार्बल स्लेब्स , टाईल्स एवं फिनिस्ड माल पर रॉयल्टी की दर 420 से बढ़ाकर 500 रुपये प्रति टन , 35 सेमी चौड़ाई से कम के टाईल्स , ब्लॉक पर 385 से बढ़ाकर 445 रुपये प्रति टन , ब्लॉक पर 265 रुपये प्रति टन से 320 रुपये प्रति टन , 60 सेमी और इससे कम व्यास के सिंगल कटर से प्रोसेस रफ ब्लॉक पर 170 रुपये से बढ़ाकर 205 रुपये  प्रति टन से रॉयल्टी की वसूली की जाएगी. 

यह भी पढ़ेंः Kishangarh Airport को मिली बड़ी सौगात, 15 शहरों के लिए अब मिलेगी हवाई यात्रा

इसके अलावा मार्बल करेजी पर 65 रुपये की जगह 90 रुपये, इण्डस्ट्री में यूज होने वाले खण्डा और करेजी पर 90 रुपये की बजाय 100 रुपये,  इण्डस्ट्रीज में काम आने वाले खण्डा व करेजी पर 120 से बढ़ाकर 145 रुपये वसूल की जाएगी. इण्डस्ट्री यूज के मार्बल पाउडर पर रॉयल्टी 120 रुपये प्रति टन यथावत रखी गई है और मेशेनरी स्टोन में काम आने वाले खण्डे पर 28 रुपये प्रति टन की बजाय 35 रुपये प्रति टन रॉयल्टी वसूली होगी. रॉयल्टी की नई दरो के बाद मकराना के व्यापारियों में विरोध नजर आया है और व्यापार मंडल ने बढ़ी दरो को वापस लेने की मांग कि गई है. 

रिर्पोटर- हनुमान तंवर