REET अभ्यर्थियों के लिए Rajasthan में की जा रही खास व्यवस्थाएं, की गई यह खास अपील

Jaipur: प्रदेशभर के सभी जिलों में 26 सितम्बर को रीट (REET Exam 2021) परीक्षा का आयोजन किया जाएगा. परिवहन आयुक्त महेंद्र सोनी (Mahendra Soni) ने परीक्षार्थियों के लिए सुगम और दुर्घटना रहित परिवहन व्यवस्था की तैयारियों को लेकर अधिकारियों की बैठक की. उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेशभर के प्रादेशिक और जिला परिवहन अधिकारियों से दो घंटे तक मंथन किया. आयुक्त सोनी ने कहा कि कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में जिस तरह ऑक्सीजन परिवहन के लिए टैंकरों का सुव्यवस्थित संचालन किया गया, उसी तरह अब रीट परीक्षा में बसों का सफल संचालन किया जाएगा. 

यह भी पढ़ेंः REET Exam 2021: परीक्षार्थियों के लिए सरकार का बड़ा फैसला, रोडवेज में होगी निशुल्क यात्रा

परिवहन आयुक्त महेंद्र सोनी (Transport Commissioner Mahendra Soni) ने बताया कि सभी आरटीओ को निर्देश दिए कि अपने क्षेत्र के सभी डीटीओ और निरीक्षकों के साथ बैठक कर तैयारियों को जल्द से जल्द अंतिम रूप दिया जाए. उन्होंने कहा कि परीक्षा में लगभग 16 लाख 75 हजार अभ्यार्थी शामिल हो सकते हैं. प्रदेश में 200 स्थानों पर 4 हजार से अधिक सेंटर हैं इसलिए सभी परिवहन अधिकारी ऑनरशिप रखते हुए कार्य करें. परीक्षार्थियों को आवश्यक जानकारी देने के लिए प्रेस नोट भी जारी करें.

कंट्रोल रूम शुरू किए जाए
आयुक्त सोनी ने बताया कि राजस्थान रोड़वेज की 3500 बसें हैं, जिनमें नियमित यात्रियों को भी सफर कराना हैं. ऐसे में प्रदेश की सभी जगहों पर निजी बसों, टैक्सी और रेल के द्वारा सफर कराने की पर्याप्त व्यवस्था हैं. आयुक्त महेंद्र सोनी ने सभी आरटीओ-डीटीओ को अपने क्षेत्रों में परिवहन व्यवस्था के लिए कंट्रोल रूम स्थापित करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि 23 सितंबर से कंट्रोल रूम शुरू किए जाए. 

यह भी पढ़ेंः REET Exam 2021: 25 लाख परीक्षार्थी होंगे शामिल, 4 हजार से ज्यादा केन्द्रों पर परीक्षा

अनाउंसमेंट कराकर समझाइश कराने के दिए निर्देश
सभी अधिकारी अपने जिला प्रशासन, रेलवे, राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के अधिकारियों, टैक्सी, सिटी बस ऑपरेर्ट्स यूनियन, संचालकों से समन्वय बनाकर अभ्यार्थियों को बिना व्यवधान के यात्रा कराने की व्यवस्था करें. आयुक्त सोनी ने बैठक में निर्देश दिए कि एक भी व्यक्ति बस और रेल की छत पर बैठकर यात्रा नहीं करें. बैठक में उपस्थित राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के अधिकारियों को अपने बस स्टैंडों पर इस तरह के अनाउंसमेंट कराकर समझाइश कराने के निर्देश दिए. 

आयुक्त महेंद्र सोनी ने कहा कि जिन शहरों में ज्यादा परीक्षार्थी आ-जा रहे हैं, वहां पर जिला प्रशासन से समन्वय बनाकर बसों का डायवर्जन किया जा सकता है. इससे शहर में जाम की स्थिति नहीं बनेगी. आयुक्त सोनी ने अभ्यार्थियों से अपील की है कि सभी के लिए पर्याप्त परिवहन संसाधन उपलब्ध है फिर भी अभ्यार्थी असुविधा से बचने के लिए संभव हो तो परीक्षा के दिन से एक-दो दिन पूर्व और एक-दो दिन बाद यात्रा करें. चालक-परिचालक द्वारा दी गई जानकारी और सलाह को मानें और बस स्टैंडों पर व्यवस्था संभाल रहे परिवहनकर्मी, पुलिसकर्मियों और अन्य स्वयंसेवकों द्वारा दिए जाने वाले दिशा-निर्देश को मानकर सफल परिवहन संचालन में सहयोग दें. इस मैराथन बैठक में मुख्यालय पर अपर परिवहन आयुक्त आकाश तोमर, आर.सी. यादव, प्रादेशिक परिवहन अधिकारी, जयपुर राकेश शर्मा, राजस्थान रोडवेज से कार्यकारी निदेशक लोकेश कुमार सहित अन्य अधिकारी और वीसी के जरिए प्रदेश के सभी आरटीओ-डीटीओ उपस्थित रहें.