बीजेपी नेता आत्माराम तोमर हत्याकांड: दो मुख्य आरोपी गिरफ्तार, पुलिस ने ऐसे किया खुलासा

बागपत: उत्तर प्रदेश के बागपत जिले की पुलिस ने बड़ी बड़ी सफलता हासिल की है. बागपत पुलिस ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व दर्ज प्राप्त मंत्री डॉ. आत्माराम तोमर हत्याकांड का खुलासा कर दिया है. साथ ही, इस वारदाथ को अंजाम देने वाले दोनों मुख्य हत्यारोपियों गिरफ्तार कर लिया गया है. पकड़े गए दोनों आरोपी प्रवीण और बलराम के कब्जे से पुलिस ने मृतक की स्कॉर्पियो कार की चाबी और मोबाइल फोन भी बरामद किए हैं.

दरअसल, एसपी बागपत नीरज कुमार जादौन ने बताया कि पुलिस ने डॉ. आत्माराम तोमर हत्याकांड में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है और इनके कब्जे से स्कॉर्पियो कार की चाबी और मोबाइल फोन पाए गए हैं. इनके ऊपर बागपत पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था. पूछताछ में इन्होंने स्वीकार किया है कि आत्माराम तोमर की हत्या इन्होंने ही की है. अब इसी आधार पर आवश्यक वैधानिक कार्रवाई की जा रही है.

राधाष्टमी के पर्व पर बरसाना में हुआ राधा रानी का जन्म, भजन की धुन पर नाचे लाखों श्रद्धालु

आरोपियों को शरण देने वाले भी गिरफ्तार
गौरतलब है कि इससे पहले पुलिस ने हत्या के मुख्य आरोपियों को शरण देने वाले दो अभियुक्तों मनमोहन निवासी गांव सांकलपुट्ठी और सुभाष गांव सौंटा को गिरफ्तार किया था. वहीं, रविवार को भाजपा नेता के शव का अंतिम संस्कार किया गया था.

यह थी घटना
डॉक्टर आत्माराम तोमर का शव 9 सितंबर को उनके आवास पर कमरे में पड़ा मिला था. पुलिस के अनुसार डाक्टर आत्माराम तोमर के छोटे बेटे अरङ्क्षवद के चचिया ससुर प्रवीण ही घटना का मुख्य आरोपी है. प्रवीण ने अपने दोस्त बलराम निवासी सांकलपुटठी,थाना चांदीनगर के साथ मिलकर उनका मुंह व नाक दबाकर मौत के घाट उतारा. आरोपित बीजेपी नेता की स्कार्पियो कार, मोबाइल और इनोवा की चाबी लेकर फरार हो गए. दोनों आरोपित सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए. जिसके बाद आरोपियों का पता चला. 

PM मोदी का अलीगढ़ दौरा: जमीन से लेकर आसमान तक सुरक्षा चाक चौबंद, जिले में भारी वाहन के घुसने पर रोक

तोमर ने बचाव के लिए संघर्ष भी किया-पीएम रिपोर्ट
यूपी के बागपत जिले के बड़ौत में बीजेपी नेता डॉ. आत्माराम तोमर की सनसनीखेज हत्या से क्षेत्र में हड़कंप मच गया था. पुलिस जांच में सामने आया कि बीजेपी नेता की हत्या के दौरान एक आरोपी ने हाथ पकड़े, तो दूसरे ने उनकी छाती पर बैठकर तकिये से मुंह दबा दिया. डॉ. तोमर ने बचाव के लिए संघर्ष भी किया था, लेकिन वह खुद को छुड़ा नहीं सके. PM रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है.

WATCH LIVE TV