अलीगढ़ में जाट राजा महेंद्र प्रताप सिंह स्टेट यूनिवर्सिटी का PM मोदी करेंगे शिलान्यास, 92 एकड़ में फैला होगा कैंपस

अलीगढ़: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 सितंबर को अलीगढ़ में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास करेंगे. पीएम दोपहर बारह के करीब अलीगढ़ पहुंचेंगे. इस मौके पर प्रधानमंत्री का संबोधन भी होगा. इसके बाद वह उत्तर प्रदेश रक्षा औद्योगिक गलियारे के अलीगढ़ नोड और राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के मॉडलों की प्रदर्शनी का अवलोकन करेंगे.

राजा महेंद्र प्रताप सिंह स्टेट यूनिवर्सिटी का होगा शिलान्यास
योगी सरकार इस विश्वविद्यालय को महान स्वतंत्रता सेनानी, लेखक, पत्रकार, शिक्षाविद् और सामाजिक सुधारक रहे मुरसान रियासत के राजा महेंद्र प्रताप सिंह के सम्मान में स्थापित कर रही है. मुरसान को अब हाथरस के नाम से जाना जाता है. राजा महेंद्र प्रताप सिंह जाट थे. पश्चिमी यूपी के जाट समाज में उनके प्रति काफी आदर और सम्मान है. विश्वविद्यालय की स्थापना अलीगढ़ की कोल तहसील के गांव लोधा और गांव मूसेपुर करीम जरौली में 92 एकड़ से अधिक रकबे की जमीन पर होगी. अलीगढ़ प्रखंड के 395 कॉलेज इस विश्वविद्यालय से संबद्ध होंगे.

वाजपेयी को हराने वाले के नाम पर विश्वविद्यालय बना रही योगी सरकार, राजा एमपी सिंह के बारे में जानें

पीएम रखेंगे डिफेंस कॉरिडोर अलीगढ़ नोड की आधारशिला
प्रधानमंत्री ने 21 फरवरी, 2018 को लखनऊ में आयोजित उत्तर प्रदेश निवेशक सम्मेलन का उद्घाटन करने के दौरान राज्य में रक्षा औद्योगिक गलियारे की स्थापना की घोषणा की थी. रक्षा औद्योगिक गलियारे के छह नोड–अलीगढ़, आगरा, कानपुर, चित्रकूट, झांसी और लखनऊ की योजना बनाई गई है. अलीगढ़-नोड के सिलसिले में भूमि आवंटन प्रक्रिया पूरी कर ली गई है और 19 फर्मों को जमीन आवंटित कर दी गई है, जो इसके विकास के लिए 1245 करोड़ रुपए का निवेश करेंगी. प्रधानमंत्री 14 सितंबर को इस प्रोजेक्ट की आधारशिला भी रखेंगे. उत्तर प्रदेश के रक्षा औद्योगिक गलियारे से देश को रक्षा उत्पादन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने और मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी. 

प्रधानमंत्री मोदी के दौरे से पहले अलीगढ़ किले में तब्दील
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. एसपीजी ने कार्यक्रम स्थल के 10 किलोमीटर के क्षेत्र को नो फ्लाइंग जोन घोषित कर दिया है. साथ ही कार्यक्रम स्थल को अपने कब्जे में ले लिया है. अलीगढ़ यातायात पुलिस ने भी पूरी तैयारी कर ली है. अलीगढ़ जिले की सीमा में 14 सितंबर को भारी वाहनों का प्रवेश न होने पाए, इस तरह के इंतजाम किए जा रहे हैं. पड़ोसी जनपद बुलंदशहर, कासगंज, हाथरस और मथुरा के अधिकारियों से समन्वय कर इंतजाम किए गए हैं. शहर के अंदर कुछ मार्गों पर रैली में जाने वाले वाहनों के अलावा अन्य तरह के सभी वाहन प्रतिबंधित रखने का निर्णय लिया गया है.

WATCH LIVE TV