कांग्रेस के पूर्व कद्दावर नेता का प्रियंका पर निशाना, बोले- वह 2022 में लाएंगी अमेठी जैसा परिणाम

लखनऊ: कांग्रेस पार्टी 2022 की शुरुआत में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Vidhansabha Chunav 2022) में 100 सीटों पर जीत दर्ज करने का लक्ष्य लेकर चल रही है. पार्टी महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) राज्य में चुनावी तैयारियों व रणनीति का काम देख रही हैं. इधर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद ने प्रियंका को उत्तर प्रदेश में पार्टी का मुख्यमंत्री चेहरा बताया है. इस बीच यूपी के एक पूर्व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने प्रियंका गांधी और पार्टी को लेकर तीखी टिप्पणी की है.

प्रियंका गांधी वाड्रा 2019 में अमेठी की प्रभारी थीं
उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके सत्यदेव त्रिपाठी (Former Congress Leader Satyadev Tripathi) ने ट्वीट किया कि प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में कांग्रेस आगामी यूपी विधानसभा चुनाव में वैसा ही प्रदर्शन दोहराएगी जैसा 2019 के लोकसभा चुनाव में अमेठी में किया था. आपको बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी अमेठी से चुनाव लड़ रहे थे, लेकिन उनके लिए प्रचार प्रियंका गांधी कर रही थीं. वह अमेठी सीट की प्रभारी थीं. राहुल ने केरल के वायनाड सीट से भी पर्चा भरा था. 

स्मृति ईरानी ने अमेठी में राहुल गांधी को हराया था
अमेठी में 2004, 2009 और 2014 में राहुल गांधी लगातार तीन लोकसभा चुनाव जीत चुके थे. लेकिन 2019 में उन्हें भाजपा की स्मृति ईरानी ने 55000 मतों से हरा दिया था. भारत के चुनावी इतिहास में इसे सबसे बड़ी राजनीतिक हारों में गिना जाता है. सत्यदेव त्रिपाठी ने ट्वीट कर कहा, ”अमेठी की प्रभारी बनकर श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने जो परिणाम राहुल गांधी को दिया था, उसकी पुनरावृति 2022 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में सुनिश्चित करने मे जुटी हैं.” कांग्रेस को 2017 में 403 विधानसभा सीटों वाले यूपी में 7 सीटें मिली थीं.

प्रियंका गांधी ने UP कांग्रेस संगठन को बर्बाद किया
एक सवाल के जवाब में सत्यदेव त्रिपाठी ने कहा, जो लिखा है, सोच-समझ कर लिखा है. मुझे पार्टी और संगठन में काम करने का लंबा अनुभव है. यूपी में कांग्रेस का जो संगठन खड़ा किया गया था, प्रियंका गांधी जी ने उसे पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है. अब जमीनी लड़ाई लड़ने के लिए कोई संगठन बचा ही नहीं है, तो फिर चुनाव कैसे लड़ेंगे और जीतेंगे? यूपी में अजय लल्लू के नेतृत्व से तमाम पार्टी पदाधिकारी और कार्यकर्ता असंतुष्ट हैं, लेकिन कार्रवाई के डर से मुंह नही खोल रहे हैं.

सोनिया गांधी को पत्र लिख चुके हैं सत्यदेव त्रिपाठी
सत्यदेव त्रिपाठी ने बताया कि मैंने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर आगाह भी किया. कहा था कि वह परिवार मोह से ऊपर उठकर पार्टी हित में काम करें. आपको बता दें कि सत्यदेव त्रिपाठी को अनुशासनहीनता के आरोप में 2019 में कांग्रेस से बर्खास्त कर दिया गया था. वह पूर्व में उत्तर प्रदेश शासन में मंत्री, राष्ट्रीय सहकारी संघ के उपाध्यक्ष, लखनऊ विश्वविद्यालय छात्रसंघ के अध्यक्ष, इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ के महामंत्री रह चुके हैं.

WATCH LIVE TV