हैकर्स कर रहे बुजुर्ग और मिडिल एज्ड यूजर्स पर Ransomware अटैक, बरतें ये सावधानी

Ransomware Attack : हर घर में लगभग बेसिक फोन की जगह स्मार्टफोन ने ले ली है. इन स्मार्टफोन से जहां हमें कई सुविधाएं मिलती हैं, वहीं इससे कई नुकसान भी उठाने पड़ते हैं. स्मार्टफोन के ज्यादा टेक्नीक और फीचर्स की जानकारी न होने का फायदा ठग उठाते हैं और वह कभी वायरस तो कभी आपके फोन को रिमोट पर लेकर आपके बैंक अकाउंट में सेंध लगा देते हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले कुछ महीनों से Ransomware अटैक के जरिए कई लोगों को चूना लगाया जा रहा है. यहां हम आपको बताएंगे आखिर क्या होता है Ransomware, कैसे ठग इससे फंसाते हैं और आप कैसे इससे बच सकते हैं.

सोशल मीडिया का ले रहे सहारा

ग्लोबल रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले कुछ महीने से हैकर्स रैनसमवेयर के जरिए लोगों को निशाना बना रहे हैं. इसके लिए वे इंस्टाग्राम (Instagram) और टिकटॉक (TikTok) जैसे ऐप का सहारा ले रहे हैं. साइबर एक्सपर्ट बताते हैं कि हैकर्स इस काम के लिए 65+ उम्र या 25 से 35 साल के उम्र वालों को ज्यादा निशाना बना रहे हैं. इनमें भी वे लोग इनके निशाने पर होते हैं जो लैपटॉप या कंप्यूटर से ऑनलाइन आते हैं. वहीं मोबाइल पर रहने वालों को मोबाइल बैंकिंग Trojans, एडवेयर डाउनलोडर और FlutBot SMS स्कैम के जरिए फंसाया जाता है. जाल में फंसाने के बाद लोगों से पैसों की उगाही की जाती है.

इस तरह फंसाते हैं

जालसाज इंस्टाग्राम और टिकटॉक पर मैलिशियस लिंक के साथ कोई मैसेज भेजते हैं. उस पर क्लिक करते ही यूजर के मोबाइल में मैलिशियस ऐफ इंस्टॉल हो जाता है और हैकर्स उसके फोन को अपने कंट्रोल में ले लेते हैं और फोन को लॉक करके उसे अनलॉक करने के बदले में रुपयों की डिमांड करते हैं.

बढ़ रहा है Ransomware अटैक

Avast Threat Labs डेटा के मुताबिक, कंपनी हर महीने औसतन 1.46 मिलियन Ransomware अटैक को ब्लॉक कर रही है. Ransomware अटैक में FlutBot तेजी से फैल रहा है.

बरतें ये सावधानी

  • फोन में सबसे पहले कोई अच्छा एंटीवायरस ऐप इंस्टॉल करें. आपको कई ऐसे अच्छे एंटीवायरस ऐप मिल जाएंगे जो फ्री हैं.
  • चाहे फोन हो या कंप्यूटर हो, इनमें मौजूद डेटा को ऑफलाइन हार्डवेयर में भी संभालकर रखें. अगर फोन हैक भी हो जाए तो डेटा के लिए आपको हैकर्स की मनमानी नहीं सहनी पड़ेगी.
  • अपने कंप्यूटर पर विंडो अपडेट्स लगातार करते रहें.
  • कंप्यूटर या लैपटॉप का सर्वर और मैसेज ब्लॉक करके रखना चाहिए.
  • आप इसके अलावा माइक्रोसॉफ्ट का लेटेस्ट पैच भी इनस्टॉल कर सकते हैं.
  • मोबाइल, कंप्यूटर, जीमेल, मैसेज व सोशल मीडिया पर आने वाले किसी भी संदिग्ध लिंक को क्लिक न करें.

ये भी पढ़ें

WhatsApp New Features: अब आप WhatsApp Web पर खुद बना सकते हैं अपना स्टिकर, जानिए क्या है पूरा तरीका

Facebook पर ना चाहकर भी बर्बाद हो जाता है काफी टाइम तो अपनाएं ये फीचर, फौरन करेगा टाइम मैनेज