15 सितंबर को गणपति बप्पा की पूजा का बन रहा है विशेष संयोग, जानें गणेश विसर्जन की तिथि

Ganesh Utsav 2021: गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2021) से गणेश उत्सव की शुरूआत हो चुका है. पंचांग के अनुसार 15 सितंबर 2021, बुधवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है. इस दिन गणेश जी की पूजा का विशेष योग बन रहा है.

बुधवार का दिन भगवान गणेश जी की पूजा के लिए सबसे उत्तम और उपयुक्त माना गया है. पंचांग के अनुसार इस दिन नवमी और दशमी की तिथि का विशेष संयोग बन रहा है. 15 सितंबर को नवमी की तिथि प्रात: 11 बजकर 19 मिनट तक रहेगी. इसके बाद दशमी की तिथि आरंभ होगी. शुभ, मांगलिक और धार्मिक कार्यों को करने के लिए नवमी और दशमी की तिथि को अत्यंत शुभ माना गया है. नवमी की तिथि मां दुर्गा की पूजा के लिए उत्तम मानी गई है. वहीं दशमी की तिथि शुभ कार्य में विशेष सफलता प्रदान करने वाली तिथि मानी गई है. विजय दशमी यानि दशहरा का पर्व भी दशमी की तिथि को ही मनाया जाता है.

गणेश उत्सव 2021 (Ganesh Utsav 2021)
15 सितंबर 2021 को गणेश उत्सव का 6वां दिन है. पंचांग के अनुसार इस दिन सौभाग्य योग बना हुआ है. पूजा-पाठ के लिए इस योग को ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बहुत ही शुभ माना गया है. बुधवार के दिन इस योग के बनने से इस दिन की पूजा का महत्व बढ़ जाता है. इस दिन भगवान गणेश जी को दूर्वा घास चढ़ाने से कई प्रकार की बाधाओं से मुक्ति मिलती है. जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है. इस दिन गणेश जी की आरती और गणेश मंत्रों का जाप करना भी शुभ फलदायी माना गया है.

गणेश विसर्जन 2021 (Ganesh Visarjan 2021 date and time)
अनंत चतुर्दशी पूजा का शुभ मुहूर्त 19 सितंबर 2021 सुबह 6:07 मिनट से शुरू होकर, अगले दिन यानि 20 सितंबर 2021 को सुबह 5:30 मिनट तक होगा. इस दिन शुभ मुहूर्त की कुल अवधि 23 घंटे और 22 मिनट होगी. इस दिन गणेश विसर्जन किया जाएगा-

  • गणेश विसर्जन शुभ मुहूर्त- सुबह 07:39 से 12:14
  • दोपहर- 01:46 से 03:18 बजे तक
  • शाम – 06:21 से 10:46 बजे तक
  • रात – 01:43 से 03:11बजे तक (20 सितंबर)

यह भी पढ़ें
Panchak in September 2021: ‘मृत्यु पंचक’ लगने में कुछ ही दिन रह गए हैं शेष, जल्द निपटा लें शुभ और महत्वपूर्ण कार्य

Rahu Transit 2022: राजा को रंक और रंक को राजा बनाने की क्षमता रखता है ‘राहु’, वृष राशि से निकल कर इस राशि की बढ़ाने जा रहा है मुश्किलें

Anant Chaturdashi 2021: अनंत चतुर्दशी के दिन होती है भगवान विष्णु के अनंत रूप की पूजा, हाथ में बांधते हैं 14 गांठ, जानें 14 गांठों का रहस्य