आप भी बनना चाहते हैं आर्मी ऑफिसर? इन 10 तरीकों से पूरा होगा सपना

नई दिल्ली: भारतीय सेना (Indian Army) में एक अधिकारी बनना सबसे गर्व की बात होती है. सेना में भर्ती होना लाखों युवाओं का सपना होता है और देश के ज्यादातर युवा एक आर्मी ऑफिसर के रूप में देश की सेवा करना चाहचे हैं, लेकिन ये ख्वाब कुछ ही लोगों का पूरा हो पाता है. इसके लिए जरूरी है मेहनत और लगन के साथ-साथ सही जानकारी. समय रहते यदि एक आर्मी ऑफिसर बनने के लिए तैयारी का जाए तो देश सेवा करने का मौका मिल सकता है. 

लेफ्टिनेंट रैंक से हो सकती है शुरुआत

भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट रैंक से अधिकारी (Indian Army Officer) के रूप सर्विस शुरू की जा सकती है. इसके बाद कैप्टन, मेजर, लेफ्टिनेंट कर्नल, कर्नल, ब्रिगेडियर, मेजर जनरल, लेफ्टिनेंट जनरल और जनरल तक प्रमोशन हो सकता है. भारतीय सेना की वेबसाइट joinindianarmy.nic.in पर अधिकारी या जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) या अन्य रैंक से शुरुआत करने के इच्छुक उम्मीदवारों की योग्यता के बारे में जानकारी दी गई है.

10 अलग-अलग तरीकों से बनें अधिकारी

वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक 10 अलग-अलग तरीकों से एक अधिकारी के रूप में भारतीय सेना में शामिल हो सकते हैं. एक अधिकारी के रूप में भारतीय सेना में शामिल होने के लिए हर पद के लिए उम्र और शैक्षणिक योग्यता इस प्रकार है-

नेशनल डिफेंस एकेडमी (NDA): एनडीए के थ्रू अधिकारी बनने के लिए उम्र 16.5 साल से 19.5 वर्ष के बीच होनी चाहिए और शैक्षणिक योग्यता 10+2 होनी चाहिए. एनडीए वेकेंसी साल में दो बार 300 कैंडिडेट के लिए आती है.  

10+2 टेक एंट्री स्कीम: 10+2 टेक एंट्री स्कीम के तहत साल में दो बार 85 वेकेंसी निकलती हैं. इसके लिए भी उम्र 16.5 से 19.5 साल के बीच होनी चाहिए और फिजिक्स, केमिस्ट्री, गणित (PCM) में 70% मार्क्स के साथ 10 + 2 पास होना चाहिए.

भारतीय सैन्य अकादमी (नॉन-टेक): इस स्कीम के तहत भारतीय सेना साल में दो बार 250 युवाओं की भर्ती करती है. इसके लिए उम्र 19 से 24 वर्ष के बीच होनी चाहिए और किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट होना चाहिए.

शॉर्ट सर्विस कमीशन (नॉन-टेक): एसएससी (SSC) के थ्रू साल में दो बार 175 कैंडिडेट सेना में अधिकारी के तौर पर भर्ती हो सकते हैं. एसएससी के लिए 19 से 25 वर्ष के बीच उम्र होनी चाहिए और किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट होना चाहिए.

शॉर्ट सर्विस कमीशन (टेक पुरुष और महिला): SSC-Tech के लिए साल में दो बार प्रति कोर्स 50 वेकेंसी होती हैं, जिनकी उम्र 19 से 27 वर्ष के बीच है और बीई/बीटेक स्ट्रीम ऑफ इंजीनियरिंग / बी आर्क, MSC कंप्यूटर साइंस के स्टूडेंट SSC-Tech के थ्रू सेना में अधिकारी बन सकते हैं.

एनसीसी स्पेशल (पुरुष और महिला): साल में दो बार प्रति कोर्स 50 वेकेंसी के साथ, एनसीसी स्पेशल के थ्रू सेना में भर्ती होती है. इसके लिए 19 से 25 साल के वे स्टूडेंट जो 50% नंबरों के साथ एलएलबी/एलएलएम पास कर चुके हैं वे अप्लाई कर सकते हैं. इसके लिए जरूरी है कि 2 साल तक आपके पास NCC रहा हो. एनसीसी में आपको बी या सी ग्रेड का सर्टिफिकेट मिला हो.

टीजीसी एजुकेशन (एईसी): टीजीसी यानी टेक्निकल एजुकेशन कोर्स के जरिए भी आर्मी में अधिकारी बनने का सपना पूरा कर सकते हैं. 23 से 27 साल के वे छात्र जो फर्स्ट या सेकंड डिवीजन के साथ एमए/एमएससी कर चुके हैं वे अप्लाई कर सकते हैं. 

यह भी पढ़ें: EL-PLछोड़िए, ‘लव लीव’ के बारे में जानते हैं? जी हां, प्यार करने के लिए भी है छुट्टी की व्यवस्था

यूनिवर्सल एंट्री स्कीम (यूईएस): प्रति कोर्स 60 वेकेंसी होती हैं. इंजीनियरिंग प्री-फाइनल ईयर के 18 से 24 वर्ष या फाइनल ईयर के 19 से 25 साल के स्टूडेंट्स इसके जरिए अप्लाई कर सकते हैं. 

टीजीसी (इंजीनियर्स): भारतीय सेना में 21 से 27 साल के कैंडिडेट के लिए साल में दो बार इंजीनियरिंग- बी आर्क, एमएससी कंप्यूटर, बीई और बी टेक स्टूडेंट्स के लिए वेकेंसी निकलती है, ये भर्ती TGC के थ्रू होती है.

जेएजी (पुरुष और महिला): जज एडवोकेट जनरल एंट्री के लिए 21 से 27 साल के बीच उम्र होनी चाहिए और 55% मार्क्स के साथ लॉ ग्रेजुएट (एलएलबी) होना चाहिए साथ ही बार काउंसिल ऑफ इंडिया/स्टेट में रजिस्ट्रेशन होना चाहिए.

LIVE TV