मुख्यमंत्री वाले बयान को लेकर पवार का फडणवीस पर कटाक्ष

Maharashtra Politics: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार ने बुधवार को पूर्व सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस पर कटाक्ष किया. दरअसल, फडणवीस ने कहा था कि वह अभी भी महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री होने जैसा महसूस करते हैं. उनके इस बयान पर पवार ने कहा कि वह चार बार राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, इसके बावजूद उन्हें कभी ऐसा नहीं लगा.

पवार ने कहा, ”अच्छा है कि बीजेपी नेता अभी तक स्वयं को मुख्यमंत्री मानते हैं. मैं उन्हें बधाई देता हूं. पांच साल तक मुख्यमंत्री रहने के बाद भी फडणवीस को लगता है कि वह इस पद पर हैं. मेरे पास इस विशेषता की कमी रही. मैंने चार बार (महाराष्ट्र के) मुख्यमंत्री के रूप में काम किया, किंतु मुझे कभी ऐसा नहीं लगा.”

फडणवीस ने नवी मुंबई में एक कार्यक्रम में कहा था कि महाराष्ट्र के लोगों ने मुझे कभी यह महसूस नहीं कराया कि मैं मुख्यमंत्री नहीं हूं. उन्होंने कहा, ”मुझे अब भी लगता है कि मैं मुख्यमंत्री हूं क्योंकि मैं पिछले दो साल से राज्य में घूम रहा हूं. लोगों का प्यार और स्नेह कम नहीं हुआ है.”

पवार के बयान पर फडणवीस ने क्या कहा?

शरद पवार के बयान पर देवेंद्र फडणवीस ने पलटवार करते हुए कहा कि कुछ नेता बतौर उनकी उपलब्धियों से नाखुश हैं. फडणवीस ने कहा, ‘‘चार बार मुख्यमंत्री बनने के बावजूद पवार ने कभी पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लोगों ने नवी मुंबई में मेरा पूरा भाषण नहीं सुना, लेकिन उसपर प्रतिक्रिया देने आगे आ रहे हैं. वास्तविकता यह है कि पिछले 40 साल में मैं एकमात्र ऐसा मुख्यमंत्री हूं जिसने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा किया है.”

उन्होंने आगे कहा, ”शरद पवार भी चार बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने लेकिन कभी कार्यकाल पूरा नहीं किया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ये नेता मेरी उपलब्धियों के कारण नाखुश हैं. मैं नेता प्रतिपक्ष के अपने मौजूदा पद से भी खुश हूं.’’

महाराष्ट्र विधानसभा के 2014 के चुनाव के बाद फडणवीस मुख्यमंत्री बने और उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया, जो पिछले तीन दशकों में राज्य के किसी भी मुख्यमंत्री ने नहीं किया था. 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन तोड़ दिया और अलग हो गई.

इसके बाद फडणवीस ने अजीत पवार के नेतृत्व वाले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) विधायकों के समूह के साथ गठबंधन किया और मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और पवार उपमुख्यमंत्री बने. मगर उनकी सरकार सिर्फ तीन दिन चली जिसके बाद उद्धव ठाकरे की अगुवाई में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की सरकार बनी.

NCP चीफ शरद पवार ने ED, CBI और NCB पर उठाए सवाल, जानें क्या कुछ कहा?