क्या यूपी में फिर एकजुट होने जा रहे चाचा-भतीजा? शिवपाल ने दिए ये संकेत

आगरा: क्या यूपी में चाचा-भतीजा यानी शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) और अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) फिर से एकजुट होने जा रहे हैं. शिवपाल सिंह यादव ने इस मुद्दे पर पहली बार अपने पत्ते खोले हैं. 

शिवपाल सिंह यादव प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (PSP) के अध्यक्ष हैं. उन्होंने कहा कि यूपी असेंबली चुनाव के लिए उनकी प्राथमिकता SP से गठबंधन करने की है. हालांकि दूसरी ‘धर्मनिरपेक्ष’ पार्टियों के साथ गठबंधन के लिए भी उनके दरवाजे खुले हैं. 

बुधवार को आगरा पहुंची रथयात्रा

शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) की सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा बुधवार को आगरा पहुंची. इस मौके पर उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ‘वर्ष 2022 के शुरुआत में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी से गठबंधन प्राथमिकता होगी. हम उत्तर प्रदेश में भाजपा को हराने के लिए धर्मनिरपेक्ष विचारधार वाली किसी अन्य पार्टी से भी गठबंधन कर सकते हैं.’

शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) ने प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘विपक्ष के पास मुद्दों की कमी नहीं है. सरकार ने खुद ही कई मुद्दे दिये हैं. इनमें सबसे प्रमुख महंगाई और भ्रष्टाचार है.’ उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने कई ऐसे कानून बनाए हैं जो जनहित में नहीं है. सरकार किसानों का उत्पीडऩ कर रही है.

बीजेपी को सत्ता से हटाने के लिए PSP तैयार

यादव (Shivpal Singh Yadav) ने कहा कि बीजेपी को सत्ता से हटाने के लिए PSP पूरी तरह से तैयार है. उन्होंने कहा कि SP और PSP के बीच गठबंधन होता भी है तो भी प्रचार-प्रसार अलग-अलग ही किया जायेगा. उन्होंने दावा किया कि सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा का मकसद समाज में परिवर्तन लाना है.

उन्होंने कहा कि इस यात्रा के जरिए बीजेपी सरकार को हटाने के लिए लोगों को जागरूक किया जायेगा. शिवपाल यादव ने दावा किया कि मंगलवार को मथुरा के वृंदावन से शुरू यह रथ यात्रा 75 जिलों से होते हुए भगवान राम के जन्म स्थान अयोध्या में संपन्न होगी.

ये भी पढ़ें- शिवपाल यादव ने SP के साथ गठबंधन का किया ऐलान, BJP के लिए कही ये बात

वर्ष 2018 में SP से अलग हो गए थे शिवपाल

बताते चलें कि वर्ष 2018 में अपने भतीजे और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से मतभेद चरम पर पहुंच गए थे. जिसके बाद शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) ने SP से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (PSP) बनाई थी.

LIVE TV