कश्मीर में सुरक्षाबलों के सामने बड़ी चुनौती, ‘पार्ट टाइम आतंकियों’ से देश को खतरा

श्रीनगर: कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों के लिए एक नई चुनौती खड़ी हो गई है. घाटी में ‘पार्ट टाइम या हाइब्रिड आतंकियों’ की मौजूदगी देश के लिए एक बड़ा खतरा पैदा कर रहा है. दरअसल पार्ट टाइम या हाइब्रिड आतंकवादी वे लोग हैं जो सुरक्षाबलों की लिस्ट में नहीं होते और आतंकी हमलों को अंजाम देते हैं फिर उसके बाद अपने काम पर वापस लग जाते हैं. ऐसे लोगों को पकड़ना सुरक्षाबलों के लिए एक बड़ी चुनौती है.

सुरक्षाबलों को है ऐसे छुपे रुस्तमों की तलाश 

घाटी इलाकों में पिछले 2 हफ्तों में, 7 नागरिक मारे गए हैं. उनमें से अधिकतर लोगों को पिस्टल वाले युवाओं ने गोली मार दी. इसके बाद सुरक्षाबल ऐसे पार्ट टाइम आतंकियों के तार जोड़ने में लगे हुए हैं जो कि चोरी छिपे इन घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें: पुलवामा में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, जैश कमांडर शमीम सोफी को किया ढेर

पुलिस ने इस साल बरामद किए 97 पिस्टल 

आईजी कश्मीर, विजय कुमार ने कहा, ‘हाइब्रिड आतंकवादी या पार्ट टाइम आतंकवादी वे लोग हैं जो हमारे साथ लिस्टेड नहीं हैं, लेकिन आतंकवादियों के संपर्क में हैं, वे लोकली प्रशिक्षित (Trained Terrorist) हैं और 1-2 हमले करने के बाद वे सामान्य जीवन में वापस आ जाते हैं. इस साल अब तक 97 पिस्टल बरामद किए गए हैं. इससे पता चलता है कि ये पाकिस्तान का एक नया एजेंडा है कि ज्यादा से ज्यादा पिस्टल और हथगोले पंप किए जाएं. इसका मुख्य कारण डक का माहौल बनाना है.’ 

पार्ट टाइम आतंक का बढ़ रहा खतरा 

गौरतलब है कि इस साल कश्मीर घाटी में सबसे ज्यादा हत्याएं पिस्टल के जरिए ही की गई हैं और अधिकतर हमले ‘पार्ट टाइम आतंकियों’ ने ही किए हैं. पुलिस अब इन हमलों की चेन को तोड़ने की कोशिश कर रही है. सामान्य नागरिकों की हत्याओं के बढ़ने के बाद पिछले कुछ दिनों में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने 500 से ज्यादा लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है.

यह भी पढ़ें: दिल्ली में बच्चों के वैक्सीनेशन की तैयारी तेज, कुछ ऐसा दिखेगा सेंटर का नजारा

निहत्ते लोगों की पिस्टल से करते हैं हत्या

इसके आलावा आईजी कश्मीर ने कहा कि, ‘पिस्टल का इस्तेमाल कर निर्दोष नागरिकों को मारने के लिए यह आतंकवादियों का एक नया तरीका है. इस वर्ष जितने भी पुलिसकर्मी मारे गए हैं, वे सभी घटना के समय निहत्ते थे और ज्यादातर हमले पिस्टल से किए गए थे. पिस्टल ले जाना और हमला करना बहुत आसान है. पाकिस्तान ने पिस्टल का इस्तेमाल करने के लिए एक नया तौर-तरीका चुना है.’ हालांकि सुरक्षाबल अब आतंकी समूहों के इन नए तौर-तरीकों को तोड़ने के लिए नई रणनीति बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

LIVE TV