Ajay Devgan को है अजीब बीमारी, ये चीज छूने के बाद हो जाते हैं काफी परेशान

बीमारी के मारे, ये सितारे/सुरेंद्र अग्रवाल: अजय देवगन पिछले साल बेयर ग्रिल्स के शो में नजर आए थे. जिससे ठीक पहले उनकी वाइफ और एक्ट्रेस काजोल ने उनकी अजीब बीमारी के बारे में बताकर सबको चौंका दिया था. दरअसल, एक्टर अजय देवगन को बॉर्डरलाइन ओसीडी है. जिसके कारण वह किसी भी गंध वाली चीज को छूने से डरते हैं. उनको डर रहता है कि उनकी उंगलियों से यह गंध बहुत देर तक रहेगी और इसको लेकर वह बहुत ज्यादा परेशान हो जाते हैं.

आखिर, क्या है ओसीडी की बीमारी, जिसमें मरीज ऐसा अजीब व्यवहार करने लगता है.

‘बीमारी के मारे, ये सितारे’ सीरीज के सभी आर्टिकल पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

OCD: ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर क्या है?
ओसीडी का पूरा नाम ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर है, जिसमें व्यक्ति को अनचाहे विचार और डर परेशान करने लगते हैं. इन अनचाहे विचार और डर के कारण व्यक्ति बार-बार ऐसा व्यवहार करने लगता है, जो कि दिखने में अजीब लग सकते हैं. जैसे- साफ जगह को भी गंदा होने के डर से साफ करना, गेट बंद होने के बावजूद बार-बार चेक करना आदि. यह जानकारी मायोक्लीनिक के मुताबिक दी गई है.

OCD Symptoms: ओसीडी के लक्षण
NIMH के मुताबिक, ओसीडी के मरीज में ऑब्सेशन और कंपल्शन दोनों के लक्षण दिख सकते हैं. जो कि हर व्यक्ति में अलग हो सकते हैं. ऑब्सेशन के अंदर मरीज को अनचाहे विचार या डर के कारण एंग्जायटी होने लगती है और कंपल्शन के अंदर वह उस डर को खत्म करने के लिए एक्शन करता है. जैसे-

  • कीटाणु या गंदगी का डर और उसे खत्म करने के लिए बार-बार सफाई करना
  • चीजें अव्यवस्थित रखे होने का विचार और एक ही चीज को बार-बार सही तरीके से रखते रहना, आदि

ये भी पढ़ें: Sachin Tendulkar की ये खासियत बन गई थी Tennis Elbow का कारण! खत्म होने की कगार पर था करियर!

OCD Treatment: ओसीडी का इलाज
हर मरीज में ओसीडी अलग तरीके की हो सकती है, जिसके लिए अलग तरीके का इलाज जरूरी होता है. लेकिन फिर भी कुछ सामान्य तरीके इस प्रकार हैं. जैसे-

  • ओसीडी के लक्षण कम करने के लिए दवाओं का सेवन
  • साइकोथेरेपी में डर लगने वाली चीजों से धीरे-धीरे संपर्क करवाया जाता है. जिससे मरीज को इसकी आदत पड़ जाती है और वह सामान्य बर्ताव करने लगता है. आदि

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.