छोटे बच्चों और किशोरों में अलग हैं ओमिक्रोन के लक्षण, ऐसे पहचानें

Omicron And Child Safety: ओमिक्रोन ने दहशत फैला रखी है. भले ही शुरुआत से ही इस वायरस को माइल्ड (Mild Virus) और कम घातक (Deadly) बताया जा रहा है. लेकिन इसके लक्षण दिखते ही मन में डर आ जाता है. इस वायरस (Omicron) के साथ एक अच्छी बात यह है कि इसके लक्षण (Symptoms) सभी जगहों पर और ज्यादातर लोगों में एक जैसे ही हैं. शुरुआत गले में जलन (Throat Burning) या खराश के साथ होती है और बाद में नाक बंद होना, जुकाम होना, सिर दर्द की समस्या और फिर बुखार आने की दिक्कतें होने लगती हैं.

हालांकि बच्चों में भी कोरोना के यही लक्षण दिख रहे हैं. लेकिन बहुत छोटे बच्चों और किशोरों में बहुत थोड़े-से अंतर के साथ बिहेव कर रहा है. जैसे, छोटे बच्चे गले में खराश या जलन की शिकायत नहीं कर सकते. वे सिर्फ रोते हैं या जो बच्चे बोलने लायक हैं वे गले में दर्द बताते हैं. इसके बाद इन्हें जुकाम-खांसी की समस्या होती है और फिर फीवर आता है. वहीं किशोरों में गले की जलन के बाद सर्दी-जुकाम के साथ ही कंपकपी के साथ तेज बुखार आने की समस्या देखने को मिल रही है.

CDC और WHO लगातार इस वायरस के बारे में सूचना जारी कर रहे हैं ताकि आप अपना और अपने परिवार का ध्यान रख सकें. किसी भी परिवार में बच्चे और बुजुर्ग इस वायरस से जल्दी प्रभावित हो सकते हैं. इसलिए इनके साथ अपना भी पूरा ध्यान रखें. आपको किन बातों पर सबसे अधिक फोकस रखना है, यहां जान लें…

  • आप जानते हैं कि कोरोना का यह वेरिएंट (Omicron) भी सांस के जरिए सबसे अधिक तेजी से फैल रहा है. इसलिए परिवार में सभी को सख्ती के साथ मास्क के उपयोग की आदत डाल दें.
  • इस वायरस को कंट्रोल करने का दूसरा तरीका है हाइजीन. कोई भी बाहर से आया सामान छूने पर हैंडवॉश करें या फिर हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करें.
  • सांसों को दुरुस्त रखने का तीसरा और आसान उपया है गर्म पानी. बहुत तेज नहीं लेकिन गुनगुना से थोड़ा गर्म पानी अपनी डेली लाइफ में शामिल करें. बाहर से आने के बाद हाथ-मुंह धोकर गर्म पानी या काढ़ा जरूर पिएं.
  • सर्दी का मौसम है तो कोल्ड-कफ हो जाना आम बात है. लेकिन कोरोना संक्रमण के बीच हम इन मामूली समस्याओं को भी अफॉर्ड नहीं कर सकते. इसलिए खुद को सर्दी से बचाकर रखें और गर्म कपड़ों का सही उपयोग करें.
  • सही डायट के साथ आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) बढ़ा सकते हैं. जब इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होती है तो कोई भी बीमारी आपको अपनी चपेट में आसानी से नहीं ले पाती. और अगर बीमारी लग भी जाए तो ज्यादा दिन तक टिक नहीं पाती है.
  • दिन में एक बार हल्दी वाला दूध जरूर पिएं और परिवार में सभी को पिलाएं. साथ ही तुलसी का काढ़ा भी हर दिन एक बार जरूर पिएं. ये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही इंफेक्शन को खत्म करने में बहुत सहायक होते हैं.
  • घरों में कैद होने के बाद एक्सर्साइज और योग के अतिरिक्त हमारे पास ऐसा दूसरा विकल्प नहीं बचता है, जो हमारे शरीर को स्ट्रॉन्ग, हेल्दी और ब्लड सर्कुलेशन को मेंटेन रखने में मदद करे. इसलिए अगर आप वॉक नहीं कर पा रहे हैं तो योग और एक्सर्साइज जरूर करें और बच्चों को भी कराएं.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

यह भी पढ़ें:  ओमिक्रोन होने पर सबसे पहले हावी होते हैं ये लक्षण, तुरंत हो जाएं सतर्क

यह भी पढ़ें: बच्चों के लिए कहर बन रहा है ओमिक्रोन, लगातार बढ़ते संक्रमण के बीच ऐसे रखें इनका ध्यान

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator