विदेश से नौकरी छोड़कर बने आईएएस, कुछ ऐसी है प्रेम प्रकाश मीणा की कहानी

Success Story of ​​Prem Prakash Meena: देश सेवा का जज्बा हो तो तकदीर व्यक्ति को कहां से कहां ले आती है. आज हम बात कर रहे है ऐसे ही आईएएस ऑफिसर की जो देश की सेवा करने के लिए एक दर्जन से अधिक देशों में नौकरी करने के बाद भारत लौटे और यूपीएससी की तैयारी कर आईएएस ऑफिसर​(IAS Officer) ​बने.

राजस्थान राज्य के अलवर जनपद के निवासी आईएएस प्रेम प्रकाश मीणा ​(Prem Prakash Meena) ​जयपुर से केमिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट हैं. उन्होंने अपनी एम-टेक की पढ़ाई आईआईटी मुंबई से की हैं. उन्होंने करीब एक दशक तक विभिन्न देशों में अंतरराष्ट्रीय तेल और गैस कम्पनियों में नौकरी की. जिसके बाद वह 2015 में वे भारत वापस लौटे और आईएएस ऑफिसर बनने के लिए तैयारी शुरू की. उन्होंने अपने प्रथम प्रयास में यूपीएससी​ (UPSC)​ की परीक्षा ​(Exam) ​में सफलता हासिल की.

 

उन्हें अपने प्रथम प्रयास में मिली रैंक के हिसाब से इनकम टैक्स ऑफिसर की नौकरी मिली. लेकिन कुछ और कर दिखाने का जज्बे के चलते उन्होंने उन्होंने दूसरा प्रयास किया, जिसमें उन्होंने 102 वीं रैंक प्राप्त की. जिसके बाद उन्हें उत्तर प्रदेश कैडर आवंटित हुआ. उन्होंने बस्ती तहसील में एक प्रोबेशनर के तौर पर अपनी ट्रैनिंग पूरी की. जिसके बाद उनकी तैनाती हाथरस जिले में जॉइंट मजिस्ट्रेट ​(Joint Magistrate) ​के तौर पर हुई. जहां उनके कार्य के प्रति ईमानदारी, निष्ठा और तत्काल समस्या के समाधान करने को लेकर वह सबके प्रिय बन गए. फिलहाल उनकी तैनाती यूपी के ही चंदौली जिले में है.

 

न्याय आपके द्वार की शुरुआत
प्रेम प्रकाश मीणा​ Prem Prakash Meena) समस्याओं का हल करने के लिए न्याय आपके द्वार अभियान की शुरुआत की थी. जिसके तहत वह मौके पर जाते हैं और स्थलीय निरीक्षण कर मामले को निस्तारित करते हैं. जिसके चलते वह लोगों की नजरों में मसीहा की तरह हैं.  सोशल मीडिया पर भी वह काफी एक्टिव रहते हैं. युवाओं के साथ विभिन्न जानकारियां साझा करते हैं.  वह यूपीएससी की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए कुछ वीडियोज बनाकर साझा करते हैं.  इसमें वह कई अहम मुद्दों पर चर्चा करते हैं, जिन्हें सिविल सर्विस एग्जाम में पूछा जा सकता है. मीणा कहते हैं कि युवाओं को कुछ पाने के लिए टाइम को मैनेज करना आना चाहिए.

 

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI