Corona के बीच अस्पताल की लापरवाही आई सामने, 2 अस्पतालों के खिलाफ उठाया गया ये कदम

China Hospitals Shut: चीन के लॉकडाउन शहर शिआन (Xi’an) में दो अस्पतालों को अपनी ड्यूटी निभाने में विफल रहने पर बंद कर दिया गया. अधिकारियों ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि एक अस्पताल ने आठ महीने की गर्भवती महिला का इलाज करने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद महिला का गर्भपात हो गया. लापरवाही सामने आने के बाद अब उस अस्पताल को बंद कर दिया गया है.   

बीजिंग में फरवरी में विंटर ओलंपिक का आयोजन होना है. ऐसे में बीजिंग की ‘जीरो कोविड’ रणनीति के तहत कोरोना के मामले सामने आने के बाद शिआन प्रांत में तीन हफ्ते से सख्त लॉकडाउन लागू किया गया है. लोगों को घर से निकलने की भी अनुमति नहीं दी गई है. 

महिला की फोटो-वीडियो हुआ था वायरल

पिछले हफ्ते सोशल मीडिया पर पोस्ट वायरल होने के बाद शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों को माफी मांगनी पड़ी. वायरल पोस्ट में महिला खून से लथपथ गाओक्सिन अस्पताल (Gaoxin Hospital) के बाहर प्लास्टिक की स्टूल पर बैठी थी. इस हालत में महिला की फोटो के साथ वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. अस्पताल ने महिला का इलाज करने से मना कर दिया था, क्योंकि महिला की कोविड-19 की निगेटिव रिपोर्ट 48 घंटे से ज्यादा की हो गई थी. 

अन्य अस्पताल की लापरवाही आई सामने 

शिआन प्रांत के एक अन्य अस्पताल से भी लापरवाही की घटना सामने आई. एक महिला ने बताया कि उसके पिता की पिछले हफ्ते मौत हो गई, क्योंकि अस्पताल ने महामारी संबंधी नियमों (Pandemic Related Rules) के चलते पिता के दिल की बीमारी का इलाज नहीं किया.

संचालन तीन महीने के लिए निलंबित 

घटना सामने आने के बाद दोनों अस्पतालों को चेतावनी दी गई है और सुधार के लिए अस्पताल के संचालन को तीन महीने के लिए निलंबित करने का आदेश दिया गया है और कहा गया है कि अप्रूवल मिलने के बाद ही अस्पताल को खोलने की अनुमति दी जाएगी. शहर के स्वास्थ्य आयोग ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि दोनों अस्पताल जान बचाने और जख्मी को बचाने में अपनी ड्यूटी को निभाग में विफल रहे हैं.  

ये भी पढ़ें- 

Omicron Variant: एस्ट्राजेनेका की बूस्टर डोज ओमिक्रोन के खिलाफ उच्च एंटीबॉडी बनाने में प्रभावी, स्टडी में हुआ खुलासा

Covid-19 in Delhi: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री बोले- पहले से गंभीर बीमारी वाले लोगों की हो रही कोरोना से मौत, बढ़ते मामले को देखकर घबराएं नहीं