जम्मू-कश्मीर में कोरोना का कहर, पिछले में 11 दिनों में ही आ गए 5 हजार से ज्यादा मामले

Jammu-Kashmir Corona Update: जम्मू-कश्मीर में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं. प्रदेश में पिछले पांच महीने की तुलना में 1 से 11 जनवरी तक सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं. 1 से 11 जनवरी तक जम्मू-कश्मीर में 5,216 कोरोना के मरीज मिले हैं, जो अगस्त 2021 के बाद से सबसे अधिक है. इनमें से 2,909 मामले जम्मू संभाग में और 2,307 कश्मीर संभाग में पाए गए हैं. जम्मू-कश्मीर में दिसंबर में 4,438, नवंबर में 4,603, अक्टूबर में 2,819, सितंबर में 4,011, अगस्त में 3,957 और जुलाई में 5,800 मामले सामने आए थे.

वहीं अधिकारियों के मुताबिक प्रदेश में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के भी 13 मामले मिले हैं, जिनमें से 5 मामले कश्मीर संभाग के हैं. जनवरी में अब तक कोरोना से 18 लोग दम तोड़ चुके हैं. दूसरी तरफ पॉजिटिविटी रेट में जनवरी के पहले 11 दिनों में 220% बढ़ोतरी हुई है. दिसंबर में पॉजिटिविटी रेट 0.26% था, जो 11 दिनों में 0.84% ​​तक पहुंच गया है. पिछले एक हफ्ते की बात करें तो पॉजिटिविटी रेट 1.18% तक जा चुका है.

15-18 साल के बच्चों का 32% हुआ वैक्सीनेशन

जम्मू-कश्मीर में बढ़ते कोरोना केस को देखते हुए बुधवार को मुख्य सचिव डॉ. अरुण कुमार मेहता की अध्यक्षता में कोविड टास्क फोर्स की बैठक हुई. इस बैठक में बताया गया कि जम्मू-कश्मीर में कोरोना वैक्सीन की पहली डोज 107% और दूसरी डोज 101% योग्य आबादी को दी गई है, जबकि 15-18 साल के बच्चों का 32% वैक्सीनेशन हो गया है. जम्मू-कश्मीर में जनवरी के पहले 11 दिनों में रोजाना 56,188 की औसत के हिसाब से  6.18 लाख कोरोना टेस्ट किए गए हैं.

जम्मू-कश्मीर में मंगलवार को मिले थे 1,148 मामले

मुख्य सचिव ने डॉ. अरुण कुमार मेहता ने जम्मू-कश्मीर में कोरोना टेस्ट को बढ़ाने पर जोर दिया है. उन्होंने टेस्ट की सुविधाओं को बढ़ाने का निर्देश दिया है, ताकि आने वाले दिनों में दो लाख से अधिक कोरोना टेस्ट किए जा सकें. उन्होंने बताया कि वर्तमान में जम्मू-कश्मीर में 10% से भी बेड्स इस्तेमाल में हैं, जो अच्छी स्थिति है. गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में मंगलवार को 1,148, सोमवार को 706, रविवार को 687 मामले सामने आए थे. जम्मू-कश्मीर में जनवरी के पहले चार दिनों में 165 से 199 के बीच हर दिन केस मिल रहे थे, जबकि दिसंबर में औसतन 143 मामले दर्ज किए जा रहे थे.

प्रदेश में 84 से अधिक ऑक्सीजन प्लांट

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर योग्य आबादी को 100% टीका देने का लक्ष्य प्राप्त करने वाला देश का दूसरा प्रदेश है. यहां उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के नेतृत्व में टीकाकरण अभियान को चलाया जा रहा है. जम्मू के स्वास्थ्य सेवाओं के निदेशक डॉ. सलीम-उर-रहमान का कहना है कि हमारे पास 84 से अधिक ऑक्सीजन प्लांट, दो 500-500 बेड्स वाले डीआरडीओ अस्पताल और 250 से अधिक वेंटिलेटर बेड हैं. सभी जिला अस्पतालों में आईसीयू उपलब्ध हैं और उप-जिला अस्पतालों के स्तर तक कोविड रोगियों के लिए पर्याप्त संख्या में बेड्स उपलब्ध हैं.

‘कोरोना से बचान के लिए वैक्सीन ही सबसे अच्छा हथियार’

इस बीच डॉक्टर्स एसोसिएशन कश्मीर ने बुधवार को लोगों को मास्क पहनने और भीड़ से बचने की सलाह दी, ताकि वायरस को फैलने से रोका जा सके. डीएके के महासचिव डॉ. अरशद अली का कहना है कि कोरोना और इसके नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के खिलाफ इस समय वैक्सीन ही सबसे अच्छा हथियार है.

ये भी पढ़ें-

Jammu-Kashmir Weather Report: जम्मू-कश्मीर में फिर होगी बारिश और बर्फबारी, भीषण ठंड की मार जारी

Kulgam Encounter: जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में जवान शहीद, मुठभेड़ में एक आतंकी भी ढेर