दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 21 हजार से ज्यादा कोरोना केस, 23 लोगों की हुई मौत

Delhi COVID-19 Rules: दिल्ली में कोरोना से मौत का आंकड़ा रोज़ाना बढ़ता जा रहा है. 11 जनवरी को जारी हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक़ दिल्ली में कोरोना से 23 लोगों की मौत हुई है, इससे पहले दो दिन लगातार मरने वालों की संख्या 17 थी. पिछले सिर्फ़ 3 दिनों की ही बात करें तो इन तीन दिनों में कोरोना की वजह से दिल्ली में 57 लोगों की मौत हो चुकी है. जिसके चलते अब कई तरह की और पाबंदियां लगाई गई हैं. 

एक्टिव मामलों की संख्या 74 हजार के पार
दिल्ली सरकार की तरफ से जारी  हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक़ दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 21,259 नए कोरोना मामले सामने आए हैं और इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मरीज़ों की संख्या भी अब 74,881 तक पंहुच गई है. करीब 8 महीने बाद ये संख्या इतनी ज्यादा नज़र आ रही है, इससे पहले 13 मई को 77,717 एक्टिव मरीज़ों का आंकड़ा सामने आया था. एक्टिव मामलों के साथ संक्रमण दर भी बढ़कर 25.65  फीसदी तक पंहुच गई है.

सरकार की तरफ से जारी हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक़ होम आइसोलेशन में इस वक्त 50,796 मरीज़ हैं. जबकि पिछले 24 घंटे में डिस्चार्ज हुए मरीज़ों का संख्या की बात करें तो ये संख्या 12,161 की है.  इसके साथ ही कंटेनमेंट जोन्स की संख्या भी बढ़कर अब 17,269 हो गई है. 

ये भी पढ़ें – ICMR Testing Guidelines: कौन से लक्षण दिखने पर करवा सकते हैं कोरोना टेस्ट, किन लोगों की नहीं होगी टेस्टिंग – ICMR ने जारी की एडवाइजरी

प्राइवेट ऑफिस भी बंद करने का आदेश
दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती मरीज़ों की संख्या पर नज़र डालें तो दिल्ली में इस वक्त 2209 मरीज़ अस्पतालों में भर्ती हैं, जिनमें 523 मरीज़ आईसीयू बेड पर भर्ती हैं तो 568 मरीज़ ऐसे हैं जो ऑक्सीजन बेड या वेंटिलेटर पर हैं. दिल्ली में कल हुई DDMA (दिल्ली डिज़ास्टर मैनेजमेंट ) की अहम बैठक में लिए गए फ़ैसलों पर DDMA ने आज एक औपचारिक आदेश भी जारी कर दिया है, इस आदेश में लिखा गया है कि दिल्ली मे अब सभी प्राइवेट दफ़्तर भी बंद रहेंगे सिर्फ़ ज़रूरी सेवाओं से जुड़े लोग ही दफ़्तर जा सकेंगे. इस दौरान जिन लोगों को छूट दी गई है वो लोग अपने वैलिड आईडी कार्ड दिखाकर ही दफ़्तर जा सकेंगे. इससे पहले DDMA द्वारा दिल्ली के सरकारी दफ़्तर भी बंद किये जा चुके हैं, सरकारी दफ़्तरों में भी ज़रूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को ही दफ़्तर जाने की छूट दी गई है. 

प्राइवेट दफ्तरों के अलावा DDMA ने अपने औपचारिक आदेश में लिखा है कि दिल्ली में अब रेस्टोरेंट और बार भी बंद रहेंगे, इनमें केवल ‘टेक अवे’ या होम डिलीवरी सर्विस की ही अनुमति होगी. दिल्ली डिज़ास्टर मैनेजमेंट का ये फ़ैसला बढ़ते कोरोना मरीज़ों की संख्या को देखते हुए लिया गया है. 

वीकली मार्केट को लेकर भी नियम
दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने भी एक ट्वीट के ज़रिए इन फ़ैसलों की जानकरी दी थी, इसके अलावा उपराज्यपाल ने वीकली मार्केट का भी ज़िक्र करते हुए लिखा था कि DDMA की मीटिंग में ये फ़ैसला लिया गया है कि अब हर ज़ोन में रोज़ाना केवल एक ही साप्ताहिक बाजार खोलने की अनुमति होगी. यानी एक ज़ोन में सिर्फ़ एक मार्केट वो भी किसी सुरक्षित जगह पर जहां ज़्यादा भीड़ जमा ना हो.

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत में बताया कि उन्होंने DDMA की बैठक के दौरान केंद्र के अधिकारियों से निवेदन किया कि जो पाबंदियां दिल्ली में लगाई गई हैं, उन्हें एनसीआर में भी लागू किया जाए. वहीं केंद्र ने उनके इस निवेदन पर आश्वासन भी दिया है. 

राजधानी में नहीं लगेगा लॉकडाउन
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पैनिक होने की जरूरत नहीं है, लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा और हालात काबू में होने पर दिल्ली में जो पाबंदियां लगाई गई हैं, उन्हें भी जल्द ही हटा लिया जाएगा. 

ये भी पढ़ें – Corona Vaccination: राजस्थान में 93 प्रतिशत से अधिक लोगों को लगी टीके पहली खुराक, मंत्री ने कही बड़ी बात