लता मंगेशकर को घर के एक स्टाफ से हुआ कोरोना, पांच डॉक्टरों की टीम कर रही इलाज

Lata Mangeshkar Health: देश की मशहूर सिंगर लता मंगेशकर कोरोना पॉजिटिव पाई गईं, जिसके बाद एहतियात के तौर पर उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया. 92 साल की लता मंगेशकर दक्षिण मुंबई के पैडर रोड स्थित घर से कम ही निकलती हैं. कोरोना काल में पिछले दो सालों से वो घर से बाहर भी नहीं निकली हैं. ऐसे में उन्हें कोरोना कैसे हुआ? इसे लेकर अब एबीपी न्यूज को एक पुख्ता जानकारी पता चली है. 

स्टाफ के पॉजिटिव पाए जाने के बाद किया गया टेस्ट

लता मंगेशकर के साथ सालों से जुड़े, उनके बेहद करीबी और सालों से उनका कामकाज संभाल रहे मयूरेश से जब एबीपी न्यूज़ ने यह सवाल पूछा तो उन्होंने कहा, “घर में कई स्टाफ भी हैं, जो अक्सर घर से बाहर कुछ न कुछ चीजें लाने के लिए जाते रहते हैं. ऐसे में घर का एक स्टाफ कोरोना संक्रमित हो गया था. इसके बाद ही लता दीदी का टेस्ट किया गया, जिसके बाद उनके भी कोरोना संक्रमित होने का पता चला.”

मयूरेश ने एबीपी न्यूज़ को लता मंगेशकर की ताजा स्थिति के बारे में बताया कि, काबिल डॉक्टरों की निगरानी में उनका इलाज चल रहा है और उनकी हालत पहले से बेहतर है. मयूरेश ने कहा कि डॉक्टरों के मुताबिक, उन्हें 7-8 दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है.

ये भी पढ़ें – छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव समेत चार लोगों की रिपोर्ट में ओमिक्रोन की पुष्टि, सभी हो चुके हैं स्वस्थ 

5 डॉक्टरों की टीम इलाज में जुटी

बता दें कि कोरोना पॉजिटिव होने के बाद लता मंगेशकर को शनिवार और रविवार की दरमियानी रात को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में दाखिल कराया गया था. जानकारी मिली है कि 5 डॉक्टरों की टीम लता मंगेशकर के इलाज में जुटी है और इस टीम का नेतृत्व डॉक्टर प्रतीत समदानी कर रहे हैं.

लता मंगेशकर के अस्पताल में भर्ती होने के बाद डॉ. समदानी ने एबीपी न्यूज़ को बताया था, “लता मंगेशकर की उम्र और बीमारी को देखते हुए उन्हें आईसीयू में रखा गया है और वो डॉक्टरों की निगरानी में हैं.  उन्हें कोविड के साथ निमोनिया भी हो गया है, जिसे ‘कोविड न्यूमोनिया’ कहा जाता है. इस वक्त मेरे लिए लता मंगेशकर की हालात के बारे में और कुछ बताना संभव नहीं होगा.”

इससे पहले लता मंगेशकर के परिवार की एक बेहद करीबी सदस्य ने लता मंगेशकर को कोविड होने और उनके अस्पताल में भर्ती होने की जानकारी देते हुए बताया था कि उनमें कोरोना के मामूली लक्षण हैं और उनकी सेहत पहले से बेहतर है.”

ये भी पढ़ें – Omicron After Effects: ओमिक्रोन होने के बाद इन अंगों पर पड़ रहा है बुरा असर, ताजा स्टडी में सामने आई बात