नोएडा में भी एक शिफ्ट में चलेंगी कक्षाएं! दिवाली के बाद स्कूल और अभिभावक लेंगे फैसला

उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐसे स्कूल जहां कम छात्र है वहां कोविड- प्रोटोकॉल के साथ एक शिफ्ट में क्लास संचालित करने का निर्देश दिया, हालांकि सरकार के इस फैसले को अभी गौतमबुद्ध नगर में लागू किया जाना बाकी है. इसका कारण यह है कि कई स्कूलों में सीनियर क्लास की अर्ध वार्षिक परीक्षा होनी है, जबकि कई सक्ल त्योहार के लिए बंद हैं. अभी सरकार के इस निर्देशों से बड़े स्कूलों को छूट दी गई है और वह दो शिफ्ट में अपने क्लास जारी रखते हैं.

राज्य सरकार ने जारी किया है आदेश

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार जिला स्कूलों के निरीक्षक धर्मवीर सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने एक आदेश जारी किया है जिसमें कम छात्रों वाले सभी स्कूलों को सभी कोविद प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक एक पाली में कक्षाएं आयोजित करने का निर्देश दिया गया है.  इसके अलावा, सरकार ने अधिक संख्या में छात्रों वाले बड़े स्कूलों को दो पालियों में सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक और फिर दोपहर 12.30 से शाम 4.30 बजे तक संचालन जारी रखने की अनुमति दी है.

हालाँकि, अधिकांश निजी स्कूल अभी भी ऑनलाइन कक्षाएं चला रहे हैं, कुछ को छोड़कर जो वर्तमान में कक्षा 9 से 12 के लिए अर्ध-वार्षिक परीक्षाएं आयोजित कर रहे हैं, इस निर्देश के दिवाली के बाद तक लागू होने की संभावना नहीं है. फिर भी, यह माता-पिता की मंजूरी पर निर्भर होगा, जो अभी तक निजी स्कूलों में बड़े पैमाने पर नहीं मिला है.

कोविड महामारी के सरकारी आंकड़ों के साथ-साथ जिले और एनसीआर में टीकाकरण के आंकड़ों की बारीकी से निगरानी की जा रही है. लेकिन त्योहारों के बाद एक शिफ्ट पर अंतिम फैसला माता-पिता की सहमति पर निर्भर करेगा.

ऑल नोएडा स्कूल पेरेट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष यतेंद्र कसाना ने कहा कि स्कूल खोलने के निर्णय लेने से पहले हमें त्योहारों के मौसम का इंतजार करने चाहिए. आदर्श यह होगा कि पहले बच्चों के टीके के आने का इंतजार करना चाहिए. अभी स्कूलों द्वारा चल रहे ऑनलाइन क्लासेज को जारी रखना चाहिए क्योंकि अभिभावक अभी भी अपने बच्चों को स्कूल भेजने में हिचकिचाते हैं.

यह भी पढ़ें:

गोरखपुर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया कालीबाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यों का लोकार्पण, कहा- श्रद्धालुओं को मिलेगी काफी सुविधा

Navratri 2021: गोरखपुर में सीएम योगी, पूजन के बाद कन्याओं को अपने हाथों से खिलाएंगे खाना