ज्यादा कीमत चुकानी होगी: कपड़े से लेकर मोबाइल और टीवी होगा महंगा, 5 से 6% बढ़ सकता है भाव

  • Hindi News
  • Business
  • From Clothes To Mobile And TV Will Be Expensive, The Price May Increase By 5 To 6%, Mobile Phone Price,

मुंबई29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

माल ढुलाई दरें अपने पीक से काफी कम हो गई हैं। लेकिन हाई इनपुट लागत के कारण आने वाले महीने में कपड़े से लेकर मोबाइप फोन और टीवी महंगे हो जाएंगे।

रॉ मैटेरियल की कीमतें बढ़ रही हैं

दरअसल रॉ मैटेरियल की कीमतों में बढ़त और इनपुट लागत बढ़ने से कंपनियां अब इसका बोझ ग्राहकों पर डालने की तैयारी कर रही हैं। टेलीविजन, स्मार्टफोन, रेफ्रिजरेटर और एयर-कंडीशनर की कीमतों में अगले महीने तक 5 से 6% की वृद्धि होने की संभावना है। इसके बाद जनवरी या फरवरी से इनकी कीमतें 10-12% फिर से बढ़ सकती हैं।

बड़े ब्रांड्स के साथ मोलभाव हो रहा है

परिधान निर्यातक (Apparel exporters) उच्च लागत को आगे बढ़ाने के लिए बड़े ब्रांड्स के साथ रेट पर फिर से मोल भाव कर रहे हैं। भारत में खराब मौसम के कारण उत्पादन और आपूर्ति प्रभावित हुई हैं। इससे फसल का नुकसान भी हुआ है। इस वजह से बासमती चावल जैसी वस्तुओं की कीमतें पहले ही बढ़ चुकी हैं। भारत से या लाने या ले जाने के लिए कंटेनर का किराया अगस्त में 10,000-12,000 डॉलर तक पहुंच गया था। यह फिलहाल 5-15% तक कम हो गया है।

जनवरी में कंटेनर का किराया कम था

हालांकि जनवरी में कंटेनर का किराया 3,000-4,000 डॉलर ही था। उसकी तुलना में यह अभी भी ज्यादा है। निर्यातकों को कीमतों में कमी और कंटेनर उपलब्धता में सुधार की उम्मीद है जिससे भारत के निर्यात को और बढ़ावा मिलेगा। अक्टूबर में निर्यात 43% बढ़कर 35.65 अरब डॉलर हो गया था। भारत में महामारी की संभावित तीसरी लहर के बारे में जब खरीदार चिंतित थे, तब निर्यातकों को साल की शुरुआत में कीमतों पर फिर से बातचीत करने में मुश्किलें आ रही थी। हालांकि अब कोविड काफी हद तक नियंत्रण में है। दुनिया भर में वैक्सीनेशन शुरू हो गया है।

यार्न की कीमतें तेजी से बढ़ीं

हालांकि, जो चीज अपैरल इंडस्ट्री को परेशान कर रही है, वह है यार्न की बढ़ती कीमतें। पिछले एक साल में यह 60% से अधिक बढ़ गई है। इससे प्रोडक्ट की कीमतें बढ़ेंगी। व्यापारियों का कहना है कि कंटेनर्स का स्टॉक कम हो गया है और यह पहले की तुलना में अब लगभग एक हफ्ते में उपलब्ध हो रहा है।कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों का कहना है कि चीन और हांगकांग से शिपिंग और हवाई माल भाड़ा दरों में अगस्त की तुलना में लगभग 10-15% की कमी आई है।

कंटेनर दरें अब चीन से 6,000 और 6,500 डॉलर के आसपास हैं, जबकि एक महीने पहले भी यह 7,000 डॉलर के करीब होती थीं। हांगकांग से हवाई माल किराया भी घट गया है।

खबरें और भी हैं…