Credit Card Statement: क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट देखना क्यों है जरूरी? नहीं देखते तो करते हैं बड़ी गलती

नई दिल्ली. अगर आप क्रेडिट कार्ड (Credit Card)  इस्तेमाल करते हैं, तो ये खबर आपके लिए ही है. क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट (Credit Card Statement) देखना बेहद जरूरी होता है. इस स्टेटमेंट से इस बात का पता चलता है कि ग्राहकों ने बिलिंग टाइम (Billing Time) के लिए क्रेडिट कार्ड का उपयोग कैसे किया है. एक्सपर्ट कहते हैं क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट यूजर्स को क्रेडिट स्कोर को बनाए रखने में भी मदद करते हैं. अस्पष्ट और संदिग्ध लेनदेन (Suspicious Transactions) पर नजर बनाए रखने के लिए हमेशा क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट को ध्यान से पढ़ना चाहिए. क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट में इन बातों को देखना काफी जरूरी होता है.

ट्रांजेक्शन चार्ज

यूजर को क्रेडिट कार्ड के बिल के साथ आने वाली फीस को सही से चैक करना चाहिए. क्रेडिट कार्ड डिटेल्स पर नजर रखने से यूजर्स को मदद मिलती है. कई बार बैंक क्रेडिट कार्ड की लिमिट से ज्यादा खर्च करने पर एक्स्ट्रा चार्ज वसूलते हैं. इसके साथ ही कई तरह के टैक्स भी काट लिए जाते हैं. इनपर नजर रखना जरूरी होता है.

ये भी पढ़ें: Best Investment Plan: रोजाना 50 रुपये बचाने से बन सकते हैं करोड़पति, जानिए पूरा प्रोसेस

क्रेडिट लिमिट

क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट से क्रेडिट लिमिट और कुल बकाया राशि के बारे में जानकारी मिलती है. कुल राशि में सभी ईएमआई शामिल होते हैं, जो उन्हें दिए गए बिलिंग साइकल में लगाए गए चार्ज के साथ भुगतान करना होता है. इससे यूजर्स को किसी भी एक्सट्रा चार्ज से बचने के लिए हर महीने कुछ बकाया राशि का भुगतान करने का सुझाव मिलता है.

रिवार्ड प्वाइंट बैलेंस

कभी-कभी क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल करने पर कुछ रिवार्ड पॉइंट्स मिलते हैं, जो एक निश्चित टाइम के लिए ही वैलिड होते हैं. यूजर को रिवार्ड पॉइंट्स एक्सपायर होने से पहले उसका इस्तेमाल कर लेना चाहिए. क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट क्रेडिट कार्ड पर उपलब्ध सभी एक्सट्रा पॉइंट्स के बारे में जानकारी देता है. इसके साथ ही स्टेटमेंट से ये भी पता चलता है कि यूजर ने कितने एक्सट्रा पॉइंट्स इस्तेमाल कर लिए हैं.

ये भी पढ़ें: Best Business Idea: अब गांव में भी खोल सकते हैं कॉमन सर्विस सेंटर, होगी शानदार कमाई; जानिए प्रोसेस

नियमों में बदलाव

क्रेडिट कार्ड मुहैया कराने वाली बैंक या कंपनी कभी-कभी कुछ नियम और शर्तों में बदलाव करती है. अगर आपकी बैंक ने भी क्रेडिट कार्ड से जुड़े नियम बदले हैं तो इनके बारे में मंथली स्टेटमेंट में पता लगाया जा सकता है और अगर आपने इन्हें नहीं देखा तो ये छूट सकता है.

ब्याज 

क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट से आपकी बकाया राशि पर लगाए गए किसी भी ब्याज से संबंधित डिटेल्स शामिल होती हैं. क्रेडिट कार्ड 50 दिनों तक की ब्याज-मुक्त अवधि के साथ आते हैं, जिसके बाद बकाया राशि पर ब्याज लिया जाता है. क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट से आप ब्याज के बारे में पूरी जानकारी ले पाएंगे.

LIVE TV